अमेरिका ने मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप में पाकिस्तानी पुलिस अधिकारी को किया ब्लैक लिस्ट

पुलिस अधिकारी ने पाकिस्तान में 190 से अधिक मुठभेड़ों को अंजाम दिया, जिसमें 400 से अधिक लोग मारे गए थे. इनमें से अधिकतर न्याय के नाम पर की गई हत्याएं थी.

अमेरिका ने मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप में पाकिस्तानी पुलिस अधिकारी को किया ब्लैक लिस्ट

अनवर फर्जी पुलिस मुठभेड़ों को अंजाम देने के लिए जिम्मेदार हैं.

खास बातें

  • सेवानिवृत्त पाकिस्तानी पुलिस अधिकारी हैं राव अनवर अहमद खान
  • मानवाधिकार उल्लंघन के आरोप हैं
  • 400 से अधिक लोगों की हत्याओं का आरोप है
नई दिल्ली:

सेवानिवृत्त पाकिस्तानी पुलिस अधिकारी राव अनवर अहमद खान (Rao Anwar Ahmed Khan) को मानवाधिकार के गंभीर उल्लंघन के मामले में अमेरिका (USA) ने ब्लैक लिस्ट किया है. अमेरिकी वित्त मंत्रालय ने यह जानकारी दी है. पाकिस्तान (Pakistan) के सिंध प्रांत के मलिर जिले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के रूप में अपनी सेवा दे चुके इनकाउंटर स्पेश्लिस्ट पर न्याय के नाम पर हत्याएं करने का आरोप है.

वित्त मंत्रालय ने कहा, ‘‘मलिर में एसएसपी के तौर पर अपने कार्यकाल में अनवर लगातार फर्जी पुलिस मुठभेड़ों को अंजाम देने के लिए जिम्मेदार है, जिनमें कई लोग मारे गए.'' उन पर वसूली, भूमि-अधिग्रहण, मादक पदार्थ की तस्करी और हत्या का भी आरोप है. मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पत्रकारों से कहा, ‘‘अनवर ने पाकिस्‍तान में 190 से अधिक मुठभेड़ों को अंजाम दिया, जिसमें 400 से अधिक लोग मारे गए थे. इनमें से अधिकतर न्याय के नाम पर की गई हत्याएं थी.''

यह भी पढ़ें-मुश्किल में आतंक का सरगना हाफिज सईद, पाकिस्तान की कोर्ट ने टेरर फंडिंग के आरोप तय किए

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अधिकारी ने कहा, ‘‘अनवर पुलिस और अपराधी व ठगों के नेटवर्क का भी प्रमुख था जो वसूली, भमि-अधिग्रहण, मादक पदार्थ की तस्करी और हत्या करने जैसे अपराधों में शामिल था.'' अमेरिका के इस कदम का पाकिस्तान ने स्वागत किया है.

‘वॉइस ऑफ कराची' के प्रमुख नदीम नुसरत ने अमेरिकी वित्त मंत्रालय के फैसले का स्वागत किया और कहा कि वैश्विक स्तर पर मानवाधिकार की रक्षा करने की दिशा में यह ऐतिहासिक कदम है. नुसरत ने कहा, ‘‘वॉइस ऑफ कराची' की अपनी टीम और शहरी सिंध में रहने वाले चार करोड़ लोगों की ओर से मैं विश्वस्तर पर मानवाधिकार के हनन करने में शामिल राव अनवर और अन्य के खिलाफ अमेरिकी वित्त मंत्रालय के कदम का स्वागत करता हूं.''