चीन ने चेंगदू के अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास से अमेरिकी झंडा हटाया: रिपोर्ट

खबर है कि चीन ने सोमवार को अपने शहर चेंगदू में स्थित अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास के भवन से अमेरिकी झंडे को हटा दिया है.

चीन ने चेंगदू के अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास से अमेरिकी झंडा हटाया: रिपोर्ट

चीन ने शुक्रवार को चेंगदू के अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास को बंद करने का आदेश दिया था.

खास बातें

  • चेंगदू मे अमेरिकी कॉन्सुलेट से अमेरिकी झंडा हटाया गया
  • शुक्रवार को चीन ने दिए कॉन्सुलेट बंद करने के आदेश
  • ह्यूस्टन में चीनी कॉन्सुलेट को बंद करने के आदेश के बाद लिया था फैसला
चेंगदू, चीन:

अमेरिका-चीन के बीच तनाव (US-China Ties) की स्थिति लगातार बनी हुई है. खबर है कि चीन ने सोमवार को अपने शहर चेंगदू में स्थित अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास (Chengdu US Consulate) के भवन से अमेरिकी झंडे को हटा दिया है. दरअसल, पिछले हफ्ते अमेरिका ने चीन से अपने शहर ह्यूस्टन स्थित उसके वाणिज्य-दूतावास को बंद करने को कहा था, जिसके बाद चीन ने भी शुक्रवार को जवाबी कार्रवाई करते हुए उसे चेंगदू के वाणिज्य-दूतावास को बंद करने को कह दिया. आदेश देने के कुछ दिनों के अंदर ही चीन ने अमेरिकी झंडे को हटाने का भी कदम उठा लिया है. 

चीन के सरकारी टीवी CCTV पर हुए प्रसारण के मुताबिक, सोमवार की सुबह-सुबह अमेरिकी कॉन्सुलेट से अमेरिकी झंडे को उतारते हुए देखा गया. दोनों देशों ने एक दूसरे पर अपनी-अपनी राष्ट्र सुरक्षा को खतरे में डालने का आरोप लगाया है. 

यह भी पढ़ें: चीन का पलटवार - अमेरिका को चेंगदू का वाणिज्य दूतावास बंद करने को कहा

वाणिज्य-दूतावास बंद करने के इन आदेशों के बीच दोनों देशों के संबंध एकदम तनावपूर्ण हो चले हैं. अमेरिका ने ह्यूस्टन के चीनी कॉन्सुलेट को बंद करने के लिए 72 घंटों का वक्त दिया था, वहीं चेंगदू में उसके कॉन्सुलेट को कब बंद करने का आदेश है, इसपर कोई जानकारी नहीं है. 

चेंगदू कॉन्सुलेट की ओर जाने वाली सड़क को सोमवार को बंद कर दिया गया था. पुलिस ने यह इलाका खाली कराकर रास्तों को ब्लॉक कर दिया है. सरकारी मीडिया ने जानकारी दी है कि कॉन्सुलेट के स्टाफ मेंबर सुबह लगभग 6 बजे के आसपास परिसर से बाहर निकल गए थे. शनिवार-रविवार के दौरान यहां पर बहुत से ट्रक देखे गए थे. वहीं सफाईकर्मी यहां से कूड़े की बड़ी थैलियां ले जाते देखे गए थे. शनिवार को यहां पर बिल्डिंग के सामने से अमेरिकी प्रतीक चिन्ह को हटाते हुए देखा गया था. 

यह भी पढ़ें: अमेरिका ने ह्यूस्टन के चीनी वाणिज्य दूतावास को 72 घंटों में बंद करने का दिया आदेश, क्या है वजह?

चीन का कहना है कि चेंगदू के अमेरिकी कॉन्सुलेट को बंद करना 'अमेरिका की ओर से उठाए गए कदमों के चलते उचित और जरूरी हो गया था.' चीन ने यह भी आरोप लगाया है कि कॉन्सुलेट का स्टाफ चीनी की राष्ट्रीय सुरक्षा और हितों के लिए खतरा पैदा कर रहा था. वहीं अमेरिका का कहना है कि चीन के ह्यूस्टन कॉन्सुलेट में अमेरिकी कॉरपोरेट सीक्रेट, अमेरिकी अधिकार वाले मेडिकल और साइंटिफिक रिसर्च को चुराने की कोशिश हो रही थी.

Video: तालिबान के उत्पीड़न का शिकार 11 अफगान सिख भारत पहुंचे

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com