NDTV Khabar

अमेरिका में मध्यावधि चुनावः राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगा झटका, डेमोक्रेट्स ने प्रतिनिधि सभा पर किया 'कब्जा

अमेरिका में हुए मध्यावधि चुनावों (US mid-term elections 2018)  के नतीजे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump)  को क्यों झटका देने वाले हैं.

706 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिका में मध्यावधि चुनावः राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगा झटका, डेमोक्रेट्स ने प्रतिनिधि सभा पर किया 'कब्जा

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगा मध्याधि चुनाव में झटका.

खास बातें

  1. अमेरिका में मध्यावधि चुनाव के नतीजों ने दिया ट्रंप को झटका
  2. प्रतिनिधि सभा पर विरोधी दल डेमोक्रेट्स ने जमाया कब्जा
  3. सीनेट में रिपब्लिकन्स का दबदबा बरकरार, ट्रंप ने नतीजों को जीत बताया
नई दिल्ली: अमेरिका में हुए मध्यावधि चुनावों (US mid-term elections 2018)  के नतीजों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump)  को झटका दिया है. विरोधी दल डेमोक्रेट्स ने हाउस ऑफ रिप्रेजेंटिटव( House of Representatives) को रिपब्लिकन्स ( Republicans) से छीन लिया है. हालांकि सीनेट( Senate) में रिपब्लिकन पार्टी की जीत हुई है.जिसे राष्ट्रपति ट्रंप ज़बरदस्त जीत बता रहे हैं. इस प्रकार से अगर देखा जाए तो  ट्रंप के लिए ये नतीजे मिले-जुले असर वाले कहे जा सकते हैं. मगर प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेट्स के कब्जे के बाद अब उनके फ़ैसलों पर कांग्रेस की निगरानी रहेगी. 435 सीटों वाली कांग्रेस में इस बार 96 यानी सबसे ज़्यादा महिलाएं जीत कर आई हैं. इसमें पहली बार दो मुस्लिम महिलाएं, दो अमेरिका की इंडियन महिलाएं और अश्वेत महिलाएं शामिल हैं.

यह भी पढ़ें- अमेरिकी मध्यावधि चुनाव में बने कई रिकॉर्ड, पहली बार दो मुस्लिम महिलाएं जीतीं

अमेरिका में हुए महत्वपूर्ण मध्यावधि चुनावों में बुधवार को विपक्षी डेमोक्रेट ने कांग्रेस के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अपना नियंत्रण कर लिया. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी ने उच्च सदन सीनेट में अपना बहुमत बरकरार रखा है.इन नतीजों से ऐसा माना जा रहा है कि 2020 के राष्ट्रपति चुनावों में दोनों प्रमुख पार्टियों के बीच राजनीतिक कड़वाहट बढ़ेगी और इनके बीच कांटे का मुकाबला होगा.डेमोक्रेट्स ने सत्ता में रिपब्लिकन पार्टी का एकाधिकार तोड़ दिया और उसे निचले सदन में 24 से अधिक सीटों का फायदा हुआ है. उसने पिछले आठ वर्षों में पहली बार 435 सदस्यीय सदन में बहुमत हासिल किया.

डेमोक्रेटिक पार्टी से मिले प्रारंभिक बयानों के अनुसार पार्टी के नेताओं ने संकेत दिये है कि राष्ट्रपति ट्रंप के लिए और कठिन स्थिति बन जायेगी जो आव्रजन, कर और स्वास्थ्य देखभाल सुधारों समेत उनके कुछ अहम मुद्दों पर व्यापक विधायी परिवर्तन चाहते हैं.पिछले कुछ सप्ताह से आक्रामक ढ़ंग से प्रचार कर रहे ट्रंप ने परिणामों को लेकर संतोष जताया और इसे जबर्दस्त सफलता के रूप में वर्णित किया.ट्रंप ने एक ट्वीट किया,‘‘आज रात जबर्दस्त सफलता. सभी को धन्यवाद.''निवर्तमान सदन में रिपब्लिकन पार्टी के पास 235 सीटें थीं जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी की 193 सीटें थीं.अमेरिकी कांग्रेस में भारतीय अमेरिकियों के अनौपचारिक समूह कथित ‘समोसा कॉकस' के सभी चार निवर्तमान सदस्य प्रतिनिधि सभा के लिए फिर से चुने गए.इसमें राजा कृष्णमूर्ति, प्रमिला जयपाल, रो खन्ना और एमी बेरा को जीत मिली.

यह भी पढ़ें- राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए क्यों अग्नि परीक्षा है अमेरिका में मध्यावधि चुनाव

नेंसी पेलोसी (78) के प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष के रूप में फिर से निर्वाचित होने की उम्मीद है. प्रतिनिधि सभा भारत की लोकसभा के समान है.वाशिंगटन डीसी में अपने विजयी भाषण में पेलोसी ने कहा कि पार्टी देश के लिए द्विपक्षीय एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए जीते हुए अपने नये बहुमत का उपयोग करेगी.इस मौके पर मौजूद अन्य डेमोक्रेटिक नेताओं के साथ उन्होंने कहा,‘‘धन्यवाद, कल अमेरिका में एक नया दिन होगा.''चुनावों में करीब 100 महिलाओं ने जीत दर्ज की है जिनमें से ज्यादातर डेमोक्रेट्स हैं. कम से कम 28 महिलाएं पहली बार निर्वाचित हुई हैं.सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी ने 100 सदस्यीय सीनेट में अपना बहुमत बरकरार रखा. सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी के 51 जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी के 49 सांसद हैं. ( इनपुट-भाषा से)

टिप्पणियां
वीडियो-सिंपल समाचार : क्या ट्रंप यूरोप को आर्थिक मंदी की तरफ धकेल रहे हैं? 





Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement