अमेरिका ने कहा- खशोगी की हत्या में सऊदी अरब की खुफिया सर्विस का हाथ, उठाया यह कदम

पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका ने खशोगी की हत्या में शामिल कम से कम कुछ लोगों की पहचान की है. इन लोगों में सऊदी अरब की खुफिया सर्विस, रॉयल कोर्ट और सऊदी विदेश मंत्रालय के लोग हैं.

अमेरिका ने कहा- खशोगी की हत्या में सऊदी अरब की खुफिया सर्विस का हाथ, उठाया यह कदम

जमाल खशोगी (Jamal Khashoggi)

वाशिंगटन :

अमेरिका ने सऊदी अरब के उन अधिकारियों का अमेरिकी वीजा रद्द करने की घोषणा की है जो पत्रकार जमाल खशोगी (Jamal Khashoggi ) की ‘हत्या' में कथित तौर पर शामिल हैं. सऊदी अरब ने स्वीकार किया है कि तुर्की के इस्तांबुल में उसके वाणिज्य दूतावास में 59 वर्षीय इस पत्रकार की हत्या हुई. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने संवाददाताओं को बताया कि अमेरिका इस मामले से जुड़े हर महत्वपूर्ण तथ्य की मांग करता रहेगा और अपनी देश की संसद और अन्य देशों के साथ मिलकर अमेरिका उन लोगों को जिम्मेदार ठहराने के लिए काम करेगा जो इस हत्या में शामिल हैं. उन्होंने कहा कि अमेरिका के पास इस मामले से संबंधित जो जानकारियां हैं, उस पर प्रशासन उचित कार्रवाई कर रहा है. 

रिपोर्ट में दावा: पत्रकार जमाल खशोगी के शव के हिस्से सऊदी महावाणिज्यदूत के आवास में मिले

पोम्पिओ ने कहा कि अमेरिका ने खशोगी की हत्या में शामिल कम से कम कुछ लोगों की पहचान की है. इन लोगों में सऊदी अरब की खुफिया सर्विस, रॉयल कोर्ट और सऊदी विदेश मंत्रालय के लोग हैं. खशोगी का ताल्लुक पहले सऊदी अरब के शाही परिवार से था लेकिन बाद में वह वली अहद (क्राउन प्रिंस) मोहम्मद बिन सलमान के आलोचक हो गए. अपनी होने वाली शादी से जुड़ा दस्तावेज लेने के लिए खशोगी दो अक्टूबर को इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास गए जहां से वह लापता हो गए थे. इस घटना ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मोहम्मद बिन सलमान के रुतबे को गहरी चोट पहुंचाई है. 

पत्रकार जमाल खशोगी की मौत पर सऊदी अरब की सफाई को सही मानते हैं ट्रंप

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)