गालवान घाटी हिंसा पर आया US का बयान, अमेरिकी विदेश मंत्री ने भारतीय जवानों को दी श्रद्धांजलि

गालवान घाटी (Galwan Valley) हिंसा मामले में अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने ट्वीट कर भारतीय वीरों को नमन किया है.

गालवान घाटी हिंसा पर आया US का बयान, अमेरिकी विदेश मंत्री ने भारतीय जवानों को दी श्रद्धांजलि

माइक पोम्पियो अमेरिका के विदेश मंत्री हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • अमेरिका के विदेश मंत्री हैं माइक पोम्पियो
  • पोम्पियो ने भारतीय जवानों को दी श्रद्धांजलि
  • गालवान घाटी में 20 सैनिकों ने गंवाई जान
वॉशिंगटन:

लद्दाख (Ladakh) स्थित गालवान घाटी (Galwan Valley) में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प (India China Clash) में एक कर्नल समेत 20 जवानों की जान चली गई. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने ट्वीट कर भारतीय वीरों को नमन किया है. माइक पोम्पियो ने लिखा, 'चीन के साथ हुए हालिया टकराव में भारत के जिन जवानों की जान गई है, उन्हें हम श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं. हम भारत के लोगों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं. इस दुख की घड़ी में हम सैनिकों के परिवारों, प्रियजनों और समुदायों को याद रखेंगे.'

गालवान घाटी में एशिया के दो ताकतवर देशों भारत और चीन के बीच सैन्य झड़प के बाद अमेरिका ने इसपर बयान देते हुए उम्मीद जताई थी कि दोनों देश शांतिपूर्ण तरीके से इसका हल निकाल लेंगे. अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था, 'भारत और चीन दोनों देशों ने तनाव को कम करने की इच्छा जताई है और हम वर्तमान स्थिति के शांतिपूर्ण समाधान का समर्थन करते हैं.' प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका मौजूदा स्थिति पर बरीकी से नजर रख रहा है. भारत के 20 जवानों के जवान गंवाने पर उन्होंने कहा कि उनके परिवारों के साथ हमारी संवेदनाएं हैं.

बता दें कि गालवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना का कोई भी जवान अब गंभीर रूप से घायल नहीं है और सबकी हालत स्थिर है. सेना के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है. उन्होंने बताया, 'हमारे सभी जवानों की हालत ठीक है और कोई भी सैनिक गंभीर नहीं है. लेह के अस्पताल में हमारे 18 जवान हैं और वह 15 दिन के भीतर ही ड्यूटी ज्वाइन कर लेंगे. इसके अलावा 56 जवान दूसरे अस्पतालों में हैं, जो मामूली तौर पर घायल हैं और वह एक हफ्ते भर के भीतर ही ड्यूटी पर लौट आएंगे.'

इसके साथ-साथ सेना ने यह भी बताया कि कोई भी जवान चीन के कब्जे में नहीं है. बता दें कि सोमवार रात गालवान घाटी में चीन की सेना के साथ हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल समेत 20 सैनिकों की जान चली गई. इससे पहले सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया था कि कोई भी भारतीय सैनिक चीनी सेना की हिरासत में नहीं है. सेना सूत्रों ने यह भी बताया कि सैकड़ों सैनिकों के बीच कई घंटे तक चले संघर्ष में चीन के 45 सैनिक या तो मारे गए या गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

Newsbeep

VIDEO: खबरों की खबर : कैसे बिगड़े लद्दाख सीमा पर हालात

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com