NDTV Khabar

अमेरिकी सांसद ने कहा, J&K समेत पूरे भारत में आतंकवाद फैला रहे हैं इस्लामी आतंकी, हमें सहयोग करना चाहिए

एक अमेरिकी सांसद ने संसद के अपने साथियों से आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहयोग की अपील करते हुए कहा कि इस्लामी आतंकवादी पूरे जम्मू-कश्मीर और भारत में अन्य जगहों पर लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं और आतंकवाद फैला रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमेरिकी सांसद ने कहा, J&K समेत पूरे भारत में आतंकवाद फैला रहे हैं इस्लामी आतंकी, हमें सहयोग करना चाहिए

सांसद फ्रांसिस रूनी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. सांसद ने कहा, भारत के समक्ष कई क्षेत्रीय एवं भूराजनीतिक खतरे हैं
  2. लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं आतंकवादी
  3. हमें नई दिल्ली में सरकार का सहयोग करना चाहिए
वॉशिंगटन:

एक अमेरिकी सांसद ने संसद के अपने साथियों से आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहयोग की अपील करते हुए कहा कि इस्लामी आतंकवादी पूरे जम्मू-कश्मीर और भारत में अन्य जगहों पर लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं और आतंकवाद फैला रहे हैं. सांसद फ्रांसिस रूनी ने बृहस्पतिवार को कहा, ‘भारत के समक्ष कई क्षेत्रीय एवं भूराजनीतिक खतरे हैं. इस्लामी आतंकवादी पूरे जम्मू-कश्मीर और भारत में अन्य जगहों पर लगातार खतरा पैदा कर रहे हैं, आतंकवाद फैला रहे हैं. हमें आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में नयी दिल्ली में सरकार का सहयोग करना चाहिए.'फ्लोरिडा से सांसद रूनी ने अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में ‘‘सहयोगी'' भारत के साथ अहम संबंधों पर अपने भाषण में कहा कि उनकी अमेरिका में भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ हाल में बैठक हुई जिसमें भारत एवं अमेरिका के बीच द्विपक्षीय संबंधों की महत्ता और भारत के समक्ष मौजूद अहम मामलों पर चर्चा की गई.

टिप्पणियां

कश्मीर में लगी पाबंदियों पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मुद्दे की गंभीरता के बारे में जानते हैं


उन्होंने कहा, ‘चीन का व्यवहार भारत के पड़ोसियों को अस्थिर कर रहा है, इसके पड़ोसियों को ऐसे कर्ज से लाद रहा है जिसका वे भुगतान नहीं कर पा रहे, जैसा कि श्रीलंका के हम्ब नटोटा बंदरगाह परियोजना में हुआ.' रूनी ने कहा कि भारत अपने शत्रु देश, अस्थिर एवं परमाणु हथियार से सशस्त्र पाकिस्तान के कारण हमेशा सतर्क रहता है. उन्होंने भारत को अमेरिका का अहम कारोबारी सहयोगी बताते हुए कहा, ‘‘हमें भारत के साथ व्यापारिक संबंधों को मजबूत करने एवं द्विपक्षीय विदेशी प्रत्यक्ष निवेश बढ़ाने की दिशा में लगातार काम करना चाहिए और एक मुक्त व्यापार समझौते को लेकर वार्ता पर विचार करना चाहिए.''
 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement