बैकफुट पर WhatsApp, विवाद के बाद रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान

फेसबुक (Facebook) के स्वामित्व वाली सोशल मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप (WhatsApp) ने शुक्रवार को प्राइवेसी अपडेट करने का अपना प्लान फिलहाल के लिए टाल दिया है.

बैकफुट पर WhatsApp, विवाद के बाद रोका प्राइवेसी अपडेट का प्लान

व्हाट्सएप एक सोशल मैसेजिंग ऐप है. (सांकेतिक तस्वीर)

खास बातें

  • व्हासट्एप ने रोका अपडेट प्लान
  • 8 फरवरी तक दिया था समय
  • टेलीग्राम और सिग्नल को मिला फायदा
सैन फ्रैंसिस्को:

फेसबुक (Facebook) के स्वामित्व वाली सोशल मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप (WhatsApp) ने शुक्रवार को प्राइवेसी अपडेट करने का अपना प्लान फिलहाल के लिए टाल दिया है. व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर काफी विवाद के बाद कंपनी ने यह फैसला लिया है. पहले 8 फरवरी तक व्हाट्सएप यूजर्स को प्राइवेसी पॉलिसी को अनिवार्य रूप से स्वीकार करना था. कंपनी ने कहा है कि पॉलिसी को लेकर फैली भ्रामक खबरों को स्पष्ट करने के बाद ही आगे फैसला लिया जाएगा.

व्हाट्सएप ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, 'हम सुन रहे हैं कि हमारे लेटेस्ट अपडेट को लेकर काफी भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है. यह अपडेट फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की हमारी क्षमता का विस्तार नहीं करता है.' व्हाट्सएप ने इससे पहले भी सफाई देते हुए कहा था, 'हम आपके निजी संदेश नहीं देख सकते हैं या आपकी कॉल नहीं सुन सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है.'

प्राइवेसी विवाद के बीच आई WhatsApp की सफाई : "दोस्तों और परिवार के साथ की गई चैट सेफ"

व्हाट्सएप की ओर से कहा गया, 'हम आपके मैसेज या कॉल का विवरण नहीं रखते हैं. हम आपके द्वारा शेयर की कई लोकेशन भी नहीं देख सकते हैं और न ही फेसबुक ऐसा कर सकता है.' व्हॉट्सएप ने यूजर्स से कहा कि उनके डेटा को फेसबुक के अन्य उत्पादों और सेवाओं से जोड़ा गया है ताकि भविष्य में यूजर्स को बेहतर सेवाएं मिलती रहें. लेटेस्ट अपडेट से आपके दोस्तों या परिवार के साथ किए गए आपके मैसेज की निजता या गोपनीयता पर असर नहीं पड़ेगा. इस विवाद के बाद भारत सरकार भी कंपनी की निजता नीति में बदलाव की समीक्षा कर रही थी.

WhatsApp की प्राइवेसी पॉलिसी पर विवाद, अखबारों में विज्ञापन के जरिए दी सफाई


गौरतलब है कि व्हाट्सएप विवाद के बाद काफी यूजर्स ने ऐप को अपने फोन से हटाना शुरू कर दिया था. इस विवाद का फायदा सोशल मैसेजिंग ऐप टेलीग्राम और सिग्नल को मिला. सिग्नल को एक गैर-लाभकारी संस्था द्वारा चलाया जाता है. इसके को-फाउंडर ब्रायन एक्टन (Brian Acton) हैं, जो व्हाट्सएप के भी फाउंडर रह चुके हैं. एक्टन ने कहा, 'हम अपने सर्वर को बढ़ा रहे हैं ताकि हमारे यूजर्स के हिसाब से हमारे पास पर्याप्त क्षमता हो. अभी जिस तरह से हमारी ऐप पर लोगों की संख्या बढ़ी है, हमने उसे मैनेज कर लिया है. हम उत्साहित हैं क्योंकि काफी भारतीय लोगों ने पिछले कुछ समय में सिग्नल ऐप को डाउनलोड किया है. हम इंडियन यूजर्स से अपने प्लेटफॉर्म पर फीडबैक को लेकर उत्सुक हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: खबरों की खबर : WhatsApp Privacy Policy पर अख़बारों में दिए इश्तिहार की असलियत



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)