NDTV Khabar

आखिर कौन है Greta Thunberg? डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए Video हो रहा वायरल

16 साल की बच्ची पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) जिसने अमेरिका में आयोजित हुए संयुक्त राष्ट्र के उच्चस्तरीय जलवायु सम्मेलन के दौरान नेताओं को लताड़ लगाने वाला भाषण देकर दुनियाभर के लोगों को अपने ओर आकर्षित किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आखिर कौन है Greta Thunberg? डोनाल्ड ट्रंप को घूरते हुए Video हो रहा वायरल

स्वीडन की पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg)

खास बातें

  1. कौन है ग्रेटा थुनबर्ग?
  2. क्लाइमेट चेंज पर UN में दिया था भाषण
  3. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो
नई दिल्ली:

16 साल की बच्ची पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) जिसने अमेरिका में आयोजित हुए संयुक्त राष्ट्र के उच्चस्तरीय जलवायु सम्मेलन के दौरान नेताओं को लताड़ लगाने वाला भाषण देकर दुनियाभर के लोगों को अपने ओर आकर्षित किया है. क्या आप जानते हैं कि आखिर कौन है ग्रेटा थुनबर्ग (Who is Greta Thunberg)? 16 वर्षीय ग्रेटा थुनबर्ग स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता है, जो जलवायु परिवर्तन की वजह से उत्पन्न होने वाले जोखिमों को लेकर अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर अपनी आवाज बुलंद कर चुकी है. इस मामले में थुनबर्ग ने कई अभियानों में हिस्सा भी लिया है.

डोनाल्ड ट्रंप ने Greta Thunberg को लेकर ट्वीट में लिखा- 'हैप्पी यंग गर्ल...', ट्रोलर्स ने यूं लगाई लताड़

कौन है ग्रेटा थुनबर्ग?


अगस्त 2018 से हर शुक्रवार स्कूल छोड़कर जलवायु परिवर्तन के लिए आवाज उठाने वाली ग्रेटा आज पर्यावरण प्रेमियों की आवाज़ बन चुकी हैं. ग्रेटा थुनबर्ग ने स्वीडन की संसद के बाहर तख्ती लेकर प्रदर्शन किया. उसने तख्ती पर लिखा- 'जलवायु के लिए स्कूल से छुट्टी'. ग्रैटा के इस आंदोलन की चर्चा दुनिया भर में है और 20 सितंबर 2019 को 150 देशों में आंदोलन हुआ. 

23 सितंबर जलवायु परिवर्तन पर UN सम्मेलन में बोलीं और दुनिया के नेताओं पर विश्वासघात का आरोप लगाया. दिसंबर 2018 में पोलैंड में भी UN की बैठक में ग्रेटा थुनबर्ग ने भाषण दिया था. उसने दुनिया के नेताओं को 'ग़ैरज़िम्मेदार बच्चा' कहा और जनवरी 2019 में दावोस वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम में भाषण भी दिया. ग्रैटा सिर्फ संयुक्त राष्ट्र में ही नहीं बल्कि ब्रिटेन, इटली, यूरोपीयन संसद में भी बोल चुकी हैं. 18 सितंबर को ग्रेटा थुनबर्ग (Grata Thunberg) ने अमेरिकी संसद को संबोधित किया था. ग्रेटा ने सांसदों से कहा था कि आपकी कोशिशें काफ़ी नहीं.

ग्रेटा थुनबर्ग के पिता पत्रकार और मां औपरा सिंगर है. ग्रेटा के बार में एक और रोचक बात है, जिसके बारे में सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. ग्रेटा ज़्यादा कार्बन उत्सर्जन के चलते हवाई यात्रा छोड़ दी और ज़मीन के रास्ते या नाव से यात्रा करती हैं.

घूरती हुई नजर आईं ग्रेटा थुनबर्ग-

पिछले एक साल से जिस मुद्दे की तरफ़ दुनिया का ध्यान खीचने की कोशिश कर रही हैं, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उस मुद्दे को झूठ करार दे चुके हैं. ग्रेटा थुनबर्ग (Greta Thunberg) सर्दी, धूप बारिश के बावजूद अकेले अपने देश स्वीडन की संसद के बाहर तब तक प्रदर्शन करती रहीं, जब तक उनके अकेले की आवाज दुनिया भर की करोड़ों आवाजों के साथ नहीं जुड़ी. संयुक्त राष्ट्र का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें ग्रेटा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को घूरती हुई नजर आ रही हैं.

Greta Thunberg कर चुकी हैं 'फ्राइडेस फॉर फ्यूचर' आंदोलन-

'फ्राइडेस फॉर फ्यूचर' (Fridays For Future) नाम का एक आंदोलन जो ग्रेटा ने शुरू किया है उससे जुड़े दुनिया भर के लाखों करोड़ों बच्चों की आवाज़ को अब अनसुना करना इन विकसित देशी के नेताओं के लिए मुश्किल है. ग्रेटा जो अबतक चेहरे पर बिना किसी शिकन के अपनी बात दो टूक कहती आयी हैं, संयुक्त राष्ट्र में अपनी भावनाओं को छिपा नहीं पायी और नेताओं पर बरस पड़ीं.

बता दें कि ग्रेटा के इस आक्रोश को जहां कुछ नेताओं ने समझा, वहीं डोनाल्ड ट्रंप उनका ट्विटर के ज़रिए माखौल उड़ाते हुए नज़र आये. उन्होंने ग्रेता के बयान पर ट्वीट किया, ''वह बेहद खुशहाल युवा लड़की (हैप्पी यंग गर्ल) नजर आ रही है, जो उज्ज्वल और अद्भुत भविष्य की तलाश में है. देख कर अच्छा लगा!''

टिप्पणियां

ट्रंप भले ही एक 16 साल की बच्ची का मज़ाक़ उड़ा रहे हों, लेकिन इस बच्ची ने बड़े-बड़े सुपर पावर देशों के नेताओं को धरती की सच्चाई समझा दी है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement