कोरोनावायरस उत्पत्ति की जांच के लिए चीन जाएगा WHO का दल

COVID-19 ने दुनिया में 500,000 से अधिक लोगों की जान ले ली है और मामले और मौतें दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं.

कोरोनावायरस उत्पत्ति की जांच के लिए चीन जाएगा WHO का दल

नई दिल्ली:

पूरी दुनिया को संक्रमित करने वाले कोरोनावायरस की उपत्ति (Coronavirus Origins) की जांच को लेकर अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की टीम चीन जाएगी. बता दें कि वैश्विक चिंताओं के कारण चीन ने कोरोनोवायरस के प्रकोप के संबंध में जानकारी देने में देरी की, जिसके चलते इस वारयरस ने धीरे धीरे पूरी दुनियो को अपनी चपेट में ले लिया और अब दुनियाभर में इस वायरस से एक करोड़ लाख से ज्यादा ग्रसित हो चुके हैं और लाख से ज्यादा की मौत हो चुकी है. पिछले साल दिसंबर में इस वायरस के बारे में चीन के वुहान में पता चला था. अब डब्लूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) की एक टीम अगले हफ्ते चीन का दौरा करेगी ताकि वायरस की उत्पत्ति और मानव में इसके प्रसार की जांच की जा सके. चीन में WHO के कंट्री ऑफिस ने 'वायरल न्यूमोनिया' के मामलों पर वुहान म्युनिसिपल हेल्थ कमीशन के एक बयान के बाद यह दौरा छह महीने से अधिक समय तक चलेगा डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस अदनोम घेबियस ने जनवरी में चीन के साथ अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों की एक टीम भेजने के लिए "जल्द से जल्द" प्रकोप की समझ बढ़ाने के लिए काम करने के लिए एक समझौते के बारे में बात की थी.

COVID-19 ने दुनिया में 500,000 से अधिक लोगों की जान ले ली है और मामले और मौतें दिन पर दिन बढ़ती जा रही हैं. एएनआई के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि वायरस की उत्पत्ति में "गहन जांच" की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ इस यात्रा के लिए चीन सरकार के साथ काम कर रहा है. डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने एएनआई को बताया,"एक टीम वायरस की उत्पत्ति की जांच के लिए अगले सप्ताह चीन जा रही है,"

"अब जो जरूरत है वह यह जानने के लिए कि दिसंबर से पहले एक अच्छी जांच हो रही है, जिससे यह पता लगाया जा सके कि यह वायरस कहां और कैसे जानवर से इंसान में आया. इसमें कोई मध्यवर्ती जानवर था या सीधे चिमगादड़ से मानव शरीर में आया जो संभव है?

उदाहरण के लिए चमगादड़ों को अन्य वायरल रोगों के लिए जिम्मेदार ठहराया गया जैसै निपाह वायरस, यह भी संभव है कि यह सीधे आया. यह भी संभव है कि एक मध्यवर्ती जानवर जैसा था, जैसा की सार्स (Severe acute respiratory syndrome) के मामलों में हैं. यह पूरी तरह से जांच अभी भी किया जाना चाहिए, "

Newsbeep

Video: क्या 15 अगस्त तक वाकई भारत कोरोना की वैक्सीन लॉन्च करने की स्थिति में होगा?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com