NDTV Khabar

'ऑपरेशन बालाकोट' के बाद से बंद एयरस्पेस को खोलना क्या पाकिस्तान की अब मजबूरी है?

भारत ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले के विरोध में ऐसा किया था. हमले में 40 जवान मारे गए थे. उसके बाद से पाकिस्तान ने हवाई क्षेत्र के ज्ञात 11 रूट में से सिर्फ दो खोले थे जो देश के दक्षिणी हिस्से से होकर गुजरते थे. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'ऑपरेशन बालाकोट' के बाद से बंद एयरस्पेस को खोलना क्या पाकिस्तान की अब मजबूरी है?

पाकिस्तान ने सोमवार रात से एयरस्पेस खोल दिया है.

खास बातें

  1. सोमवार की रात की घोषणा
  2. पाकिस्तान को हो रहा था 688 करोड़ रुपये का नुकसान
  3. आर्थिक बदहाली से जूझ रहा है पाकिस्तान
नई दिल्ली:

पाकिस्तान ने सोमवार देर रात से अपने हवाई क्षेत्र को सभी तरह के असैन्य उड़ानों के लिए खोल दिया है. इस आशय की जानकारी सूत्रों से प्राप्त हुई है. इसके साथ ही फरवरी में हुए  बालाकोट हवाई हमले  के बाद पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में भारतीय उड़ानों पर लगा प्रभावी प्रतिबंध खत्म हो गया है. इससे सबसे ज्यादा लाभ एअर इंडिया को होगा क्योंकि फरवरी से अभी तक अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों, खास तौर से अमेरिका और यूरोप जाने वाली उड़ानों, को दूसरे रास्ते से ले जाने के कारण कंपनी को करीब 491 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. सूत्रों ने सोमवार देर रात बताया, ‘‘पाकिस्तान ने आज रात 12 बजकर 41 मिनट से सभी विमानन कंपनियों को अपने हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने की अनुमति दे दी है. भारतीय विमानन कंपनियां जल्दी ही पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र से होते हुए अपने सामान्य रूट से उड़ानें शुरू कर सकेंगी.''    पाकिस्तान के नागर विमानन प्राधिकरण ने भारतीय समयानुसार देर रात 12 बजकर 41 मिनट पर एयरमैन (एनओटीएएम) को एक नोटिस जारी कर कहा कि ‘‘पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र को सभी ज्ञात एटीएस रूट पर सभी असैन्य उड़ानों के लिए तत्काल प्रभाव से खोला जाता है.'' आपको बता दें कि पाकिस्तान ने 26 फरवरी को बालाकोट में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण शिविर पर भारतीय वायुसेना के हमले के बाद से अपने हवाई क्षेत्र को पूरी तरह बंद कर दिया था.

भारत ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा  में सीआरपीएफ के काफिले पर 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले के विरोध में ऐसा किया था. हमले में 40 जवान मारे गए थे. उसके बाद से पाकिस्तान ने हवाई क्षेत्र के ज्ञात 11 रूट में से सिर्फ दो खोले थे जो देश के दक्षिणी हिस्से से होकर गुजरते थे. जहां तक बात भारत की है भारतीय वायुसेना ने 31 मई को कहा था कि बालाकोट हवाई हमले के बाद भारतीय हवाई क्षेत्र पर लगे अस्थाई प्रतिबंध को हटा लिया गया है. हालांकि इससे व्यावसायिक उड़ानों को ज्यादा लाभ नहीं हुआ क्योंकि उन्हें पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र के पूरी तरह खुलने का इंतजार था.


भारत को अभी तक कितना हुआ नुकसान
उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने संसग में जानकारी दी है कि पाकिस्तान के एयरस्पेस बंद हो जाने से भारत को लगभग 430 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. अपने लिखित जवाब में केंद्रीय मंत्री ने बताया कि लगभग 13 लाख रुपये प्रतिदिन के हिसाब से नुकसान हुआ है और फ्लाइंग टाइम भी 15 मिनट तक बढ़ गया था. उन्होंने कहा लेकिन इसका बोझ ग्राहकों पर नहीं डाला गया है और न किराया बढ़ा.

पाकिस्तान को कितना हुआ नुकसान
आर्थिक रूप से कंगाली के हालात से जूझ रहे पाकिस्तान की एक दिन में 400 उड़ाने प्रभावित हुई थीं और उसे लगभग 688 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. मिली जानकारी के मुताबिक एयरस्पेस बंद होने से पाकिस्तान के लिए ईंधन, ऑपरेशन की लागत, रखरखाव और क्रू मेंबर के काम घंटों में बढ़ोत्तरी हो गई. जाहिर इस समय जिस आर्थिक तंगी से पाकिस्तान जूझ रहा है इसके लिए इतना बड़ा नुकसान झेलना वश की बात नहीं थी. आप वहां के हालात से अंदाजा इस बाते लगा सकते हैं कि पाकिस्तान सरकार को अपना खर्चे निकालने के लिए लोगों से ईमानदारी से टैक्स जमा करने की अपील करनी पड़ रही है.

पाकिस्तान ने खोला एयरस्पेस, भारतीय एयरलाइन ऑपरेटरों को मिलेगी राहत​

अन्य बड़ी खबरें :

पाकिस्तान सरकार का नया फरमान, सिगरेट और शर्बत पर वसूला जाएगा 'पाप कर'

पाकिस्तान के राष्ट्रपति जरदारी, 34 मंत्रियों ने नहीं भरा टैक्स

पाकिस्तान ने ADB से 3.4 अरब डॉलर की मदद का किया दावा, बैंक ने कहा- अभी कुछ तय नहीं

टिप्पणियां


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement