NDTV Khabar

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को राहत नहीं, कोर्ट ने गिरफ्तारी वांरट रद्द करने की अर्जी खारिज की

इसका मतलब यह है कि असांजे यदि अपने मौजूदा ठिकाने इक्वेडोर के दूतावास से बाहर कदम रखते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

30 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को राहत नहीं, कोर्ट ने गिरफ्तारी वांरट रद्द करने की अर्जी खारिज की

जूलियन असांजे (फाइल फोटो)

लंदन:
विकीलीक्स के संस्थापक जूलिनय असांजे की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं.विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को बड़ा झटका देते हुए एक ब्रिटिश अदालत ने असांजे की ओर से एक वॉरंट रद्द कराने की दूसरी अर्जी भी आज खारिज कर दी. इसका मतलब यह है कि असांजे यदि अपने मौजूदा ठिकाने इक्वेडोर के दूतावास से बाहर कदम रखते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा. असांजे ने 2012 से ही इक्वेडोर के दूतावास में शरण ले रखी है.

जज एम्मा अर्बथनॉट ने असांजे के वकीलों की इस दलील को खारिज कर दिया कि 2012 में जारी वॉरंट को बरकरार रखना अब जनहित में नहीं है. स्वीडन प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ अपनी कानूनी लड़ाई के दौरान असांजे ने जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया था, जिसके बाद उनके खिलाफ यह वॉरंट जारी किया गया था. 

वरिष्ठ जिला जज एम्मा अर्बथनॉट ने वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में कहा कि वह असांजे की कानूनी टीम की इस दलील से संतुष्ट नहीं हैं कि जमानत की शर्तों के उल्लंघन के आरोप में उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश करना जनहित में नहीं है. 

जज एम्मा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि गिरफ्तारी एक उचित जवाब है, हालांकि असांजे ने अपनी आजादी कई सालों के लिए सीमित कर ली है.’ उन्होंने कहा कि प्रतिवादी को कहा गया कि वह अदालत आकर अपनी पसंद के परिणामों का सामना करें. उनमें ऐसा करने का साहस होना चाहिए. इस मामले में आगे कदम बढ़ाना जनहित के खिलाफ नहीं है.

स्वीडिश अभियोजकों ने असांजे के खिलाफ जांच बंद कर दी है, लेकिन लंदन के नाइट्सब्रिज स्थित इक्वेडोर दूतावास से वह बाहर निकलते हैं तो उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है.

असांजे के वकीलों ने मांग की थी कि वॉरंट वापस ले लिया जाए क्योंकि स्वीडन अब उनका प्रत्यर्पण नहीं चाहता. लेकिन जज ने पिछले हफ्ते भी असांजे की यह अर्जी खारिज कर दी थी. असांजे के वकीलों ने दलील दी थी कि 2012 में जारी वॉरंट को बरकरार रखना अब जनहित में नहीं है. स्वीडन प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ अपनी कानूनी लड़ाई के दौरान असांजे ने जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया था, जिसके बाद उनके खिलाफ यह वॉरंट जारी किया गया था.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement