NDTV Khabar

सऊदी अरब में सिर्फ 15 मिनट में मिल रहे हैं महिलाओं को पासपोर्ट, बिना रोक-टोक कहीं भी कर सकेंगी सफर

सऊदी अरब ने इसी महीने महिलाओं पर लगे यात्रा संबंधी प्रतिबंध हटाए हैं. महिलाओं को पहले यात्रा करने या पासपोर्ट बनवाने के लिए अपने पुरुष संरक्षक की अनुमति लेनी पड़ती थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सऊदी अरब में सिर्फ 15 मिनट में मिल रहे हैं महिलाओं को पासपोर्ट, बिना रोक-टोक कहीं भी कर सकेंगी सफर

सऊदी अरब में महिलाओं को 15 मिनट में मिलेगा पासपोर्ट

रियाद:

सऊदी अरब में महिलाओं को पासपोर्ट मिलना आसान हो गया है. पासपोर्ट के लिए आवेदन करने पर सभी संबंधित औपचारिकताएं सिर्फ 15 मिनट में पूरी हो जाएंगी. महिलाओं को खुश करने वाली यह खबर एक मीडिया रिपोर्ट ने दी है. मक्का क्षेत्र में पासपोर्ट्स के निदेशक अबेद अल-हार्दी ने सऊदी गजट से कहा कि सऊदी अरब में पासपोर्ट के आवदेन करने वालों की संख्या प्रतिदिन बढ़ रही है, और महिलाएं भी बढ़-चढ़ कर आवेदन कर रही हैं.

उन्होंने कहा, "सभी पासपोर्ट केंद्र 21 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों का पासपोर्ट बिना किसी रोक के जारी करने के आदेश दे रही है."

उन्होंने कहा कि पहले सिस्टम अलग था, जब 21 वर्ष से ऊपर के सिर्फ पुरुषों को बिना परमिट के यात्रा करने की अनुमति थी, लेकिन महिलाओं को संरक्षक (पति, पिता या भाई) को साथ ले जाना पड़ता था.

सऊदी अरब का एक और ऐतिहासिक फैसला, बिना पुरुष के विदेश यात्राएं कर पाएंगी महिलाएं


अब महिलाओं को 21 वर्ष की आयुसीमा के अतिरिक्त और कोई अनिवार्यता नहीं है.

एक महिला आवेदक ने सऊदी गजट को बताया, "प्रक्रिया सरल थी और मुझे मेरा पासपोर्ट लगभग 15 मिनट में ही मिल गया."

एक अन्य महिला ने कहा, "नियम संशोधित होने के बाद अब मैं अपना पासपोर्ट खुद रीन्यू करा सकती हूं."

इसी बीच पासपोर्ट्स के महानिदेशक ने घोषणा की है कि 21 वर्ष से ऊपर की महिला की यात्रा करने पर विभाग परिवार के मुखिया को कोई टैक्स्ट मैसेज नहीं भेजता है.

सऊदी अरब में पाकिस्तान के डॉक्टरों की नौकरी खतरे में, बोले - MS और MD डिग्री की मान्यता खत्म

टिप्पणियां

सऊदी अरब ने इसी महीने महिलाओं पर लगे यात्रा संबंधी प्रतिबंध हटाए हैं. महिलाओं को पहले यात्रा करने या पासपोर्ट बनवाने के लिए अपने पुरुष संरक्षक की अनुमति लेनी पड़ती थी.

इससे पहले बिना पासपोर्ट की महिलाओं को यात्रा करने के लिए उनके पुरुष संरक्षकों के पासपोर्ट पर एक पेज दे दिया जाता था, जिससे उनके लिए उनके संरक्षकों के बिना यात्रा करना असंभव था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement