NDTV Khabar

129 साल जिंदा रही ये महिला, सिर्फ एक ही दिन रह पाई खुश, ऐसा क्या हुआ था उस दिन

रूस सरकार ने इस बात की पुष्टी कि है कोकु सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी के जनरल सेक्रेटरी रहे जोसेफ स्टालिन (Joseph Stalin) के समय की आखिरी महिला हैं. यह बात उनके पेंशन डॉक्यूमेंट्स से पता चली. जोसेफ स्टालिन साल 1929 से 1953 के बीच सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स (USSR) के तानाशाह रहे. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
129 साल जिंदा रही ये महिला, सिर्फ एक ही दिन रह पाई खुश, ऐसा क्या हुआ था उस दिन

129 साल की बूढ़ी महिला सिर्फ एक दिन ही रह पाई खुश, ऐसा क्या हुआ था उस दिन

रूस:

दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला, जिनकी 129 साल की उम्र में मृत्यु हुई. मरने से पहले उन्होंने अपनी ज़िंदगी के कुछ राज़ खोले, जिसमें से सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात यह थी कि वो अपनी पूरी ज़िंदगी में सिर्फ एक ही दिन खुश रहीं. यानी लगभग 47085 दिनों में यह महिला सिर्फ 1 ही दिन खुश रही. बता दें, 129 साल में 47085 होते हैं. मरने से पहले उन्होंने इस बात का ज़िक्र किया कि मौत के खौफ के बजाय उन्हें तमन्ना थीं कि वो जल्दी मर जाएं.

डेलीमेल के मुताबिक मामला रूस के चेचन्या शहर की कोकु इस्तम्बुलोवा (Koku Istambulova) का है. उन्होंने मरने से पहले बताया कि वो अपनी पूरी ज़िंदगी में सिर्फ एक ही दिन खुश रहीं और वो दिन था जब वो अपने घर में आईं. ये घर उन्होंने खुद अपने हाथों से बनाया. उनकी पूरी ज़िंदगी का यही सिर्फ एकलौता ऐसा दिन था जिस दिन वो खुश हुईं.

Valentine Week 7 फरवरी से शुरू, जानिए Rose Day से Valentine's Day के बीच के सभी Love Days


 

इतना ही नहीं उनकी सबसे बड़ी शिकायत ये रही कि वो 129 सालों तक ज़िंदा क्यों रहीं, वो जल्दी क्यों नहीं मर गईं. उनका कहना था लंबी ज़िंदगी जीना बेहद मुश्किल है, खासकर तब जब आपकी आंखों के सामने आपके अपने मरें. 

बता दें, रूस सरकार ने इस बात की पुष्टी कि है कोकु सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी के जनरल सेक्रेटरी रहे जोसेफ स्टालिन (Joseph Stalin) के समय की आखिरी महिला हैं. यह बात उनके पेंशन डॉक्यूमेंट्स से पता चली. जोसेफ स्टालिन साल 1929 से 1953 के बीच सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स (USSR) के तानाशाह रहे. 

Rose Day के लिए खास मैसेजेस, Valentine Week की करें शुरुआत इन प्यार भरें SMS के साथ

उस दौर में कोकु इस्तम्बुलोवा (Koku Istambulova) ने रूस में बहुत खून खराबा देखा. लाशों के ढेर, अपने दो बेटों की आंखों के सामने मौत और इंसानों के शरीर को जानवरों को खाते हुए देखना, जैसे भयानक मंज़र 129 साल की ज़िंदगी में देखे. इसी वजह से वो जीने से ज्यादा मरने की इच्छुक रहीं. युद्ध में अपने घर और अपनों को खोने के बाद सिर्फ वही दिन उनके लिए खुशी का था, जिस दिन उन्होंने खुद से अपने लिए घर बनाया और उसमें सुकून से रहने आईं. 

7 फरवरी को है Rose Day, जानिए Valentine Week के इस पहले दिन से जुड़ी खास बातें

टिप्पणियां

VIDEO: हौसले से बची ज़िंदगी


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement