NDTV Khabar

मलेशिया में हिंदुओं के खिलाफ टिप्पणी करने पर जाकिर नाइक से होगी पूछताछ, जानें क्या दिया था बयान

मलेशिया का प्रशासन इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाइक  को पूछताछ के लिए तलब करेगा. यह पूछताछ मलेशिया में कथित तौर पर नस्लीय रूप से संवेदनशील टिप्पणी करने के मामले में की जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मलेशिया में हिंदुओं के खिलाफ टिप्पणी करने पर जाकिर नाइक से होगी पूछताछ, जानें क्या दिया था बयान

मलेशिया में जाकिर नाइक से होगी पूछताछ

खास बातें

  1. हिंदूओं के खिलाफ टिप्पणी करने पर जाकिर नाइक से होगी पूछताछ
  2. मलेशिया में होगी पूछताछ
  3. गुरुवार को यह जानकारी सरकार ने दी
कुआलालंपुर:

मलेशिया का प्रशासन इस्लामिक प्रचारक  जाकिर नाइक  को पूछताछ के लिए तलब करेगा. यह पूछताछ मलेशिया में कथित तौर पर नस्लीय रूप से संवेदनशील टिप्पणी करने के मामले में की जाएगी. गुरुवार को यह जानकारी सरकार ने दी. यह कदम कई मंत्रियों द्वारा बुधवार को नाइक के निष्कासन की मांग के बाद आया है, जब नाइक ने कहा था कि 'मलेशिया में हिंदुओं को भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यक की तुलना में 100 गुना अधिक अधिकार' है. जाकिर नाइक, जो लगभग तीन साल से मलेशिया में रह रहा है, उसके खिलाफ भारत में मनी लॉन्ड्रिंग और भड़काऊ भाषण के मामले दर्ज हैं. नाइक पर मलेशिया में धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ टिप्पणी करने को लेकर निशाना साधा जा रहा है. 

SC में अनुच्छेद 370 पर याचिका: CJI ने याचिकाकर्ता को लगाई फटकार, पूछा- ये किस तरह की याचिका है?


मलेशिया के गृहमंत्री मुहियुद्दीन यासीन ने कहा, पुलिस जाकिर जाकिर नाइक और कई अन्य व्यक्तियों और समूहों से "नस्लीय-विरोधी बयान", सार्वजनिक भावनाओं को आहत करने वाली फर्जी खबरें फैलाने के बारे में पूछताछ करेगी. गृहमंत्री की ओरे से जारी बयान में कहा गया है, 'मैं गैर-नागरिकों सहित सभी पार्टियों को याद दिलाना चाहूंगा कि मेरे मंत्रालय के तहत प्रवर्तन एजेंसियां सार्वजनिक सद्भाव और शांति को खतरा पैदा करने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के लिए दो बार नहीं सोचेगी.'

भारतीय सेना ने पांच भारतीय जवानों को मार गिराने के पाकिस्तान के दावे को किया खारिज

इस मामले पर टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर जाकिर नाइक के प्रतिनिधि ने बताया कि पहले उन्हें मंत्री का बयान पढ़ने की जरूरत है. जाति और धर्म मलेशिया में संवेदनशील मुद्दे हैं, जहां 32 मिलियन की आबादी का लगभग 60 प्रतिशत हिस्सा मलय मुस्लिम हैं. बाकी ज्यादातर चीनी और भारतीय मूल के हैं, जिनमें से अधिकांश हिंदू हैं.

शहीद का परिवार रह रहा था झोपड़ी में, सरकार ने नहीं की मदद तो गांव वालों ने चंदा कर बना दिया 'महल' देखें VIDEO

वहीं, पिछले महीने खबर आई थी कि मलेशिया से जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण को लेकर भारत लगातार प्रयास कर रहा है. मलेशिया सरकार ने भारत को सूचित किया था कि अपील पर विचार किया जा रहा है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था कि भारत न केवल मलेशियाई सरकार के माध्यम से बल्कि अपने उच्चायोग के जरिये भी इस मामले पर आगे बढ़ रहा है. रवीश ने एक सवाल के जवाब में कहा था, 'हमने उसके प्रत्यर्पण के लिये समय-समय पर न केवल मलेशिया सरकार के साथ सलाह-मशविरे के माध्यम से बल्कि अपने उच्चायोग के जरिये भी अनुरोध किया है. हमने उन्हें प्रक्रिया तेज करने के लिये कहा है. हमें बताया गया है कि इसपर विचार किया जा रहा है और यह ऐसी प्रक्रिया है जिसमें समय लगेगा.'

टिप्पणियां

राम जन्मभूमि मामले में 'अयोध्या नरेश' के पार्टी न बनने की क्या है वजह? जानें पीछे की पूरी कहानी

बता दें, कट्टरपंथी इस्लामिक प्रचारक जाकिर साल 2016 में भारत से भाग गया था और उसके बाद से मलेशिया मे रहा है. मलेशिया ने उसे कथित रूप से स्थायी निवासी का दर्जा दे दिया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement