इसलिए Bajrang Punia अपने कांस्य पदक को जीत नहीं मानते

इसलिए Bajrang Punia अपने कांस्य पदक को जीत नहीं मानते

Bajrang Punia ने ओलिंपिक कोटा हासिल किया है

खास बातें

  • वर्ल्ड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में हार गए थे पूनिया
  • कुछ हार सिखा कर जाती हैं-पूनिया
  • समर्थन करने वालों का शुक्रिया
नूर सुल्तान (कजाकिस्तान):

भारत के लिए यहां जारी विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप (World Wrestling Championship) के 65 किलोग्राम भारवर्ग में कांस्य पदक अपने नाम करने वाले बजरंग पूनिया ने कहा कि वह इस पदक को जीत न मानकार आने वाली चुनौतियों का सामना करेंगे. पूनिया ने शुक्रवार को शानदार प्रदर्शन करते हुए कांस्य पदक के मुकाबले में मंगोलिया के तुल्गा ओचिर को एक करीबी मुकाबले में 8-7 से पराजित किया. 

यह भी पढ़ें: बजरंग सेमीफाइनल में हारे, पर हासिल किया ओलिंपिक कोटा, महिला वर्ग में पूजा भी हारीं

उन्होंने ट्वीट किया, "कुछ हार ऐसी सीख सिखा जाती है जो जीतने पर शायद कभी न मिले. इस कांस्य पदक को जीत न मानकर, मैं आने वाली चुनौतियों के लिए इसे एक स्मारिक बनाकर प्रेरित होता रहूंगा" पूनिया ने उन सभी लोगों को भी धन्यवाद दिया जिन्होंने उनका समर्थन किया. 

यह भी पढ़ें:  विनेश फोगाट ने टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई किया, पूजा ढांडा हासिल कर सकती हैं 'बड़ी उपलब्धि'

उन्होंने ट्वीट किया, "मैं आप सभी को तह-ए-दिल से धन्यवाद करता हूं. मैं अपने आप को बहुत भाग्यशाली मानता हूं. जो लगातार आप सभी ने मुझे प्यार और समर्थन दिया है. इस उपलब्धि का हकदार हर वो इंसान है जिसने इस सपने को साकार करने के लिए अपना योगदान दिया है"

VIDEO:  एनडीटीवी ने पिछले साल अमित पंघाल से खास बात की थी. 

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


ओचिर के खिलाफ हुए मुकाबले में पुनिया की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी. एक समय वह 0-6 से पीछे थे लेकिन बाद में उन्होंने वापसी करते हुए पदक अपने नाम कर लिया.