NDTV Khabar

तंदूरी चिकन और फिश फ्राई हो गए Fail, 60 फीसदी लोग खाते हैं ये

भारत के लोग तंदूरी चिकन, मटन, फिश जैसे मासांहारों को देखकर ललचाने लगते हैं, लेकिन 63 फीसदी भारतीयों का कहना है कि वे गोश्त के बदले वनस्पति से प्राप्त भोजन खाना पसंद करते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तंदूरी चिकन और फिश फ्राई हो गए Fail, 60 फीसदी लोग खाते हैं ये

लोगों के मन से उतरा तंदूरी चिकन

नई दिल्ली:

देश में मधुमेह जैसे रोगों से पीड़ित लोगों की तादाद बढ़ने के बीच एक अच्छी खबर है कि ज्यादातर लोग अब स्वास्थ्यवर्धक भोजन पसंद करने लगे हैं. एक सर्वेक्षण के अनुसार, 63 फीसदी भारतीय गोश्त की जगह वनस्पति से प्राप्त भोजन पसंद करते हैं. मतलब मांसाहारी के बजाए शाकाहारी लोगों की तादाद ज्यादा हो गई है. ग्लोबल रिसर्च कंपनी इप्सोस की रिपोर्ट 'फूड हैबिट्स ऑफ इंडियंस : इप्सोस अध्ययन' में पाया गया कि भारतीय जानकारी के आधार पर पसंद करने लगे हैं. अब वे एक परंपरागत आदत में नहीं, बल्कि प्रयोग में विश्वास करने लगे हैं.

दुनिया का सबसे ताकतवर शख्स डोनाल्ड ट्रंप ऐसे कम कर रहे हैं अपना वज़न
 

सर्वेक्षणकर्ताओं ने कहा, "हमें मालूम है कि भारत के लोगों को भोजन से लगाव होता है और तंदूरी चिकन, मटन, फिश और विविध प्रकार के मासांहारों को देखकर उनके लार टपकने लगता है. लेकिन रायशुमारी में 63 फीसदी भारतीयों का कहना है कि वे गोश्त के बदले वनस्पति से प्राप्त भोजन खाना पसंद करते हैं."


रिपोर्ट के अनुसार, 57 फीसदी लोगों ने बताया कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण करते हैं.

Cold Drink को जाओ भूल, अच्छी सेहत के लिए आज से आजमाएं ये 7 देसी ड्रिंक्स

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में 57 फीसदी लोगों का दावा है कि वे जैविक खाद्य पदार्थ ग्रहण करते हैं, जबकि विकसित देशों में जैविक खाद्य पदार्थ खाने वाले लोग कम हैं, जिनमें जापान में 13 फीसदी और 12 फीसदी ब्रिटिश हैं.

सर्वेक्षण पिछले साल 24 अगस्त से लेकर सात सितंबर तक 29 देशों में करवाया गया था. सर्वेक्षण में भारत में 1,000 नमूने लिए गए थे.

कोलेस्ट्रॉल लेवल को सही रखने के लिए ना खाएं ये 5 चीज़ें

टिप्पणियां

VIDEO: मुम्बई में दिव्यांग चला रहे हैं 'कैफ़े अर्पण' रेस्टोरेंट



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement