Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पांच हजार डॉलर में बिक सकता है चरखे के बारे में लिखा गया महात्मा गांधी का पत्र

हात्मा गांधी द्वारा चरखे के महत्त्व पर जोर देते हुए लिखा गया एक बिना तारीख वाला पत्र 5,000 डॉलर में नीलाम हो सकता है.

पांच हजार डॉलर में बिक सकता है चरखे के बारे में लिखा गया महात्मा गांधी का पत्र

America, Boston: अमेरिका के नीलामी घर आरआर ऑक्शन के मुताबिक महात्मा गांधी द्वारा चरखे के महत्त्व पर जोर देते हुए लिखा गया एक बिना तारीख वाला पत्र 5,000 डॉलर में नीलाम हो सकता है. नीलामी घर ने एक बयान में बताया कि यशवंत प्रसाद नाम के किसी व्यक्ति को लिखा गया यह पत्र गुजराती में है और यह “बापू का आशीर्वाद” से हस्ताक्षरित है. गांधी ने पत्र में लिखा है, “हमने जो चरखे के बारे में सोचा था वह हो गया.”

महात्मा गांधी को मिल सकता है अमेरिका का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, कानून पेश करने की तैयारी

उन्होंने लिखा, “हालांकि तुमने जो कहा वह सही है : यह सबकुछ करघों पर निर्भर करता है.” गांधी द्वारा चरखे का उल्लेख अत्याधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि उन्होंने इसे आर्थिक स्वतंत्रता के प्रतीक के तौर पर अपनाया था. स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान भारतीयों को सहयोग के लिए उन्हें हर दिन खादी कातने के लिए समय देने के लिए प्रेरित किया था. 

महात्मा गांधी, डॉ जाकिर हुसैन सहित कई दिग्गज नेता जा चुके हैं संघ के कार्यक्रमों में

उन्होंने स्वदेशी आंदोलन के तहत सभी भारतीयों को अंग्रेजों द्वारा बनाए गए कपड़ों की बजाए खादी पहनने के लिए प्रोत्साहित किया था. चरखा और खादी भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के प्रतीक बन गए थे. ऑनलाइन नीलामी 12 सितंबर को समाप्त हो जाएगी.

(इनपुट-भाषा)