NDTV Khabar

Viral Video: एक मिनट में ऐसे होती है EVM से छेड़छाड़! दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने किया रीट्वीट

7830 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Viral Video: एक मिनट में ऐसे होती है EVM से छेड़छाड़! दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने किया रीट्वीट

ईवीएम टैंपरिंग को दिखाने वाले इस वीडियो को अरविंद केजरीवाल ने रिट्वीट किया है.

खास बातें

  1. दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने ट्वीट किया EVM टैंपरिंग का वीडियो
  2. वीडियो में हैकर्स एक मिनट में EVM हैक करने का कर रहे दावा
  3. एनडीटीवी नहीं करता इस वीडियो की सत्यता का दावा
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों के चुनाव परिणाम आने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बीएसपी प्रमुख मायावती ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने ईवीएम में छेड़छाड़ कर जीत दर्ज की है. हालांकि चुनाव आयोग लगातार बयान जारी कर कह रहा है कि ईवीएम में छेड़छाड़ संभव ही नहीं है. इस मुद्दे से जुड़ा एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें ईवीएम में छेड़छाड़ करते हुए दिखाया गया है. इसमें दावा किया गया है कि एक्सपर्ट चंद मिनट में ईवीएम को हैक कर सकते हैं. हैकर्स बता रहे हैं कि एक मिनट की छेड़छाड़ के बाद ईवीएम से अपनी पसंद के परिणाम हासिल किए जा सकते हैं. ये भी दिखाया गया है कि वोटर जिस पार्टी को वोट देने के लिए ईवीएम में बटन दबाता है वह उसी मशीन से उसी की पर्ची प्राप्त होती है, लेकिन जांच करने पर पता चलता है कि वोट किसी दूसरी पार्टी को चले गए हैं.

इस वीडियो को ट्विटर पर काफी तेजी से शेयर किया जा रहा है. यहां तक की खुद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी इस वीडियो को रिट्वीट किया है. एनडीटीवी इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.
मालूम हो कि अमेरिका, रूस, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया जैसे विकसित देशों में भी बैलेट पेपर से चुनाव संपन्न कराए जाते हैं. जनसंख्या के लिहाज से दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में ईवीएम से वोटिंग होते हैं. बीएसपी सुप्रीमो मायावती और अरविंद केजरीवाल लगातार ईवीएम के बजाय बैलेट पेपर से वोटिंग कराने की मांग कर रहे हैं.

वहीं हमेशा से निर्वाचन आयोग अपने ऊपर उठने वाली उंगलियों और सवालों के जवाब कुछ कुछ अंतराल में देता आया है. अब भारत निर्वाचन आयोग ने एक बार फिर यही किया है. पिछले दिनों भारतीय निर्वाचन आयोग की इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनों को लेकर आमजनों के दिमाग में कुछ सवाल उठे हैं. निर्वाचन आयोग बार-बार कहता रहा है कि ईसीआई-ईवीएम और उनसे संबंधित प्रणालियां सुदृढ़, सुरक्षित और छेड़खानी-मुक्त हैं.

निम्नांकित बार बार पूछे जाने वाले प्रश्नों (एफएक्यूज) के उत्तरों के जरिए ईवीएम की अद्यतन प्रौद्योगिकी संबंधी विशेषताओं सहित सुरक्षा विशेषताओं की विस्तृत जानकारी दी गई है. इनमें यह भी बताया गया है कि इन मशीनों के विनिर्माण से लेकर भंडारण तक इनके इस्तेमाल के प्रत्येक चरण में कड़े प्रशासनिक उपाय किए जाते हैं.

ईवीएम के साथ छेड़खानी करने का क्या अर्थ है?

टैम्परिंग या छेड़खानी का अर्थ है, कंट्रोल यूनिट (सीयू) की मौजूदा माइक्रो चिप्स पर लिखित साफ्टवेयर प्रोग्राम में बदलाव करना या सीयू में नई माइक्रो चिप्स इंसर्ट करके दुर्भावनापूर्ण साफ्टवेयर प्रोग्राम शुरू करना और बैलेट यूनिट में प्रेस की जाने वाली ऐसी ‘कीज़’ बनाना, जो कंट्रोल यूनिट में वफादारी के साथ परिणाम दर्ज न करती हो.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement