NDTV Khabar

ऑटो ड्राइवर अचानक रहने लगा 1.6 करोड़ के बंगले में, पकड़ा तो कहा- 'गिफ्ट में मिला है...' आईटी डिपार्टमेंट हैरान

आयकर विभाग (Income Tax Department) ने बेंगलुरु (Bangalore) के एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर के 1.6 करोड़ के घर में छापेमारी की. ऑटो ड्राइवर का नाम नल्लूराली सुब्रमणि (Nalluralli Subramani) बताया जा रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ऑटो ड्राइवर अचानक रहने लगा 1.6 करोड़ के बंगले में, पकड़ा तो कहा- 'गिफ्ट में मिला है...' आईटी डिपार्टमेंट हैरान

आयकर विभाग (Income Tax Department) ने बेंगलुरु (Bangalore) के एक ऑटो रिक्शा ड्राइवर के 1.6 करोड़ के घर में छापेमारी की. ऑटो ड्राइवर का नाम नल्लूराली सुब्रमणि (Nalluralli Subramani) बताया जा रहा है. ऑटो ड्राइवर सुब्रमणि (Auto Driver Nalluralli Subramani) ने बताया कि अमेरिका में रहने वाली एक विदेशी महिला ने उसे ये घर गिफ्ट के तौर पर दिया है. जिसको सुनकर आईटी डिपार्टमेंट (IT Department) भी हैरान रह गया. बेंगलुरु के सबसे रिहाइशी इलाके वाइटफील्ड में ये घर है. 16 अप्रैल को आयकर विभाग ने छापा मारा था. जांच में पता चला कि उसके बीजेपी एमएलए अरविंद लिंबावाली (BJP MLA Arvind Limbavali) से भी संबंध हैं. लेकिन उन्होंने इस मुद्दे में किसी भी तरह की भागीदारी से इनकार किया.

सांप ने काटा तो गुस्से में किसान ने ऐसे लिया बदला, पहले चबाया और फिर...


ऑटो ड्राइवर के मुताबिक, ये घर अमेरिकी महिला ने उसे गिफ्ट में दिया है. NewsMinute की खबर के मुताबिक, 72 वर्षीय लारा इविसन 2006 में बेंगलुरु आई थी. वो वहां 2010 तक रुकी. 4 साल तक सुब्रमणि ने महिला की मदद की. वो उन्हें घर लेने आता और छोड़ने जाता था. उसी दौरान लारा को पता चला कि सुब्रमणि काफी गरीब है और उसकी आर्थिक स्थिति काफी खराब है. जिसके बाद उसने मदद करने का वादा किया. 

एक शब्द की वजह से अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का फिर उड़ा मजाक, ट्वीट में कर बैठे गलती

लारा ने आईटी डिपार्टमेंट को बताया कि उसने न सिर्फ गिफ्ट के तौर पर घर दिया है, बल्कि बच्चों की पढ़ाई के लिए भी पैसे दिए हैं. सुब्रमणि ने बताया- 'अमेरिकी महिला ने मेरी मदद की है. वो जब भी बेंगलुरु आती हैं तो इसी घर में परिवार के साथ रुकती हैं.'

टिप्पणियां

धोनी ने पत्नी साक्षी संग डाला वोट, बेटी Ziva ने देशवासियों से की यह अपील....देखें क्यूट VIDEO

सुब्रमणि ने पूरानी बातें बताते हुए कहा- 'उनको बारिश के दिनों में कैब या रिक्शा नहीं मिलता था. मैंने उस दिन उनको घर छोड़ा था. अगले दिन भी मैने उनकी मदद की थी. जब भी उनको ट्रांसपोर्टेशन की जरूरत होती तो वो मुझे कॉल करती थीं. जिसके बाद हम दोस्त बन गए और मैंने अपने परिवार के बारे में बताया तो उन्होंने मुझे घर दे दिया और पैसे दे दिए.' बता दें, आईटी डिपार्टमेंट उन पर नजर बनाए रखा है. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement