NDTV Khabar

पैगम्बर मोहम्मद की वंशज हैं ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ : अध्ययन

मोरक्को के एक समाचारपत्र ने एक अध्ययन का हवाला देते हुए दावा किया है कि ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ (द्वितीय) दरअसल पैगम्बर मोहम्मद की वंशज हैं.

8.2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पैगम्बर मोहम्मद की वंशज हैं ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ : अध्ययन

एक अध्ययन के अनुसार, महारानी एलिज़ाबेथ की पूर्वज मुस्लिम राजकुमारी ज़ायदा थीं.

खास बातें

  1. अध्ययन: महारानी एलिज़ाबेथ की पूर्वज मुस्लिम राजकुमारी ज़ायदा थीं.
  2. महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय सबसे लम्बे समय तक राज करने वाली रानी हैं.
  3. मोरक्को के समाचारपत्र ने दावा किया है.
मोरक्को के एक समाचारपत्र ने एक अध्ययन का हवाला देते हुए दावा किया है कि ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ (द्वितीय) दरअसल पैगम्बर मोहम्मद की वंशज हैं. 'डेली मेल' के मुताबिक इस खोज को सबसे पहले शाही वंशावलियों के बारे में विशेषज्ञ माने जाने वाले बर्क के अमीर ने 1986 में प्रकाशित की थी. मोरक्को के समाचारपत्र ने दावा किया है कि महारानी एलिज़ाबेथ के परिवार को लेकर 43 पीढ़ियों तक पीछे जाने पर यह सामने आया है कि महारानी दरअसल पैगम्बर मोहम्मद की दूर की रिश्तेदार हैं.

न्यूजीलैंड के दस्तावेजों में हुआ खुलासा, 1981 में हुई थी ब्रिटेन की महारानी की हत्या की कोशिश

अध्ययन में दावा किया गया है कि एलिज़ाबेथ द्वितीय की वंशावली 14वीं सदी के अर्ल ऑफ कैम्ब्रिज से लेकर मध्यकालीन मुस्लिम स्पेन से होकर पैगम्बर मोहम्मद की बेटी फातिमा तक जाती है. कुछ इतिहासकारों ने इस दावे का खंडन किया है, लेकिन शुरुआती मध्यकालीन स्पेन के वंशावली-संबंधी रिकॉर्ड इस दावे के सच होने की ओर इशारा करते हैं. रिपोर्टों के अनुसार, मिस्र (इजिप्ट) के पूर्व ग्रांड मुफ्ती अली गोमा ने भी इस दावे की पुष्टि की है.

महारानी एलिजाबेथ द्वारा नववर्ष पर सम्मानित किए जाने वालों की सूची में 33 भारतीय मूल के लोग
 
queen elizabeth

(महारानी एलिज़ाबेथ द्वितीय दुनिया की सबसे लम्बे समय तक राज करने वाली रानी हैं.)

बर्क के प्रकाशन निदेशक ने 1986 में तत्कालीन ब्रिटिश प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर को भेजे खत में लिखा था, "कम ही ब्रिटिश लोगों को पता है कि माहारानी की रगों में मोहम्मद का खून दौड़ रहा है. बहरहाल, सभी मुस्लिम धार्मिक नेताओं को इस सच्चाई पर फख्र है." उन्होंने यह भी लिखा था, "शाही परिवार को आतंकवादियों से हमेशा सुरक्षित रखने के लिए उनके पैगम्बर मोहम्मद का वंशज होने के भरोसे नहीं रहा जा सकता."

775 कमरों वाले बकिंघम पैलेस को नया रूप देने की तैयारी, खर्च होंगे 45.6 करोड़ डॉलर

बर्क के अमीर द्वारा किए गए अध्ययन में संकेत दिया गया था कि महारानी की पूर्वजों में एक मुस्लिम राजकुमारी ज़ायदा थीं, जो अपने गृहनगर सेविल से 11वीं सदी में निकल गई थीं, और फिर ईसाइयत कबूल कर ली थी. ज़ायदा दरअसल सेविल के बादशाह अल-मुतामिद इब्न अब्बाद की चौथी पत्नी थीं, और उनका बेटा सैन्चो था, जिसकी एक वंशज ने बाद में अर्ल ऑफ कैम्ब्रिज से 11वीं सदी में शादी की.

टिप्पणियां
क्‍वीन एलिजाबेथ द्वितीय को चाहिए बकिंघम पैलेस के लिए एक माली, सैलरी होगी 14 लाख सालाना

बहरहाल, ज़ायदा के पूर्वजों को लेकर इतिहासकारों में मतभेद हैं. कुछ का मानना है कि वह एक शराबी खलीफा की संतान थीं, जो पैगम्बर मोहम्मद का वंशज था, जबकि कुछ का कहना है कि वह शादी के बाद खलीफा के परिवार का हिस्सा बनीं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement