करोड़ों में बिकती हैं यह दुर्लभ छिपकलियां, थैला भरकर ले जा रहा था तस्कर, BSF ने ऐसे दबोचा

बीएसएफ (BSF) ने बुधवार को पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा के जरिये तस्करी कर लाई जा रहीं ''टोके गेको'' (Tokay Gecko) प्रजाति की 14 छिपकलियां पकड़ी हैं.

करोड़ों में बिकती हैं यह दुर्लभ छिपकलियां, थैला भरकर ले जा रहा था तस्कर, BSF ने ऐसे दबोचा

थैला भरकर दुर्लभ छिपकलियां ले जा रहा था तस्कर, BSF ने ऐसे दबोचा, जानिए क्यों बिकती है करोड़ों में

बीएसएफ (BSF) ने बुधवार को पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा के जरिये तस्करी कर लाई जा रहीं ''टोके गेको'' (Tokay Gecko) प्रजाति की 14 छिपकलियां पकड़ी हैं. अधिकारियों ने बताया कि दुर्लभ प्रजातियों की इन छिपकलियों की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत सात करोड़ रुपये है.
 
उन्होंने कहा कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों ने परगुमटी सीमा चौकी पर एक व्यक्ति को देखा. जैसे ही उन्होंने उस व्यक्ति का पीछा करना शुरू किया, वह छिपकलियों से भरा प्लास्टिक का थैला छोड़कर भाग गया.
 
अधिकारियों ने कहा कि छिपकलियां वन्यजीव विभाग को सौंप दी गई हैं. ये छिपलियां पेड़ पर रहती हैं और एशिया तथा प्रायद्वीप के कुछ हिस्सों में पाई जाती हैं.

वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 के तहत इन छिपकलियों को रखना या इनका व्यापार करना अवैध है. ''टोके गेको'' छिपकलियों का इस्तेमाल पारंपरिक औषधियां बनाने में किया जाता है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com