Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

महिला ने सपने में निगली शादी की अंगूठी, उठी तो उंगली देखकर रह गई हैरान

एक अमेरिकी महिला ने नींद में आए एक बुरे सपने के कारण अपनी सगाई की अंगूठी निगल ली. इसके बाद महिला को अस्पताल जाकर सर्जरी करानी पड़ी. महिला के लिए बुरी बात यह हुई कि उसने सपने में ही नहीं, बल्कि हकीकत में ही अंगूठी निगल ली.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महिला ने सपने में निगली शादी की अंगूठी, उठी तो उंगली देखकर रह गई हैरान

अमेरिका में महिला ने सपने में निगली सगाई की अंगूठी.

एक अमेरिकी महिला ने नींद में आए एक बुरे सपने के कारण अपनी सगाई की अंगूठी निगल ली. इसके बाद महिला को अस्पताल जाकर सर्जरी करानी पड़ी. महिला को सपना आया था कि वह और उसका मंगेतर तेज गति से चल रही एक ट्रेन में यात्रा कर रहे हैं और इस दौरान कुछ बुरे लोगों से अगूंठी को बचाने के लिए उसने इसे निगल लिया. महिला के लिए बुरी बात यह हुई कि उसने सपने में ही नहीं, बल्कि हकीकत में ही अंगूठी निगल ली.

IIT-Bombay के हॉस्टल में जा घुसी गाय, खा गई किताबें, हैरान रह गए स्टूडेंट्स

कैलिफोर्निया निवासी 29 वर्षीय जेना इवांस जब इस बुरे सपने के बाद जगी तो उसने देखा कि उसकी हीरे की अंगूठी उसकी उंगली में नहीं थी. महिला ने कहा कि इस घटना के बारे में बताने के लिए उसने अपने मंगेतर को जगाया और इसके बाद दोनों अस्पताल पहुंचे.

यहां की सरकार ने 11 करोड़ रुपये में सर्कस से खरीदे 4 हाथी, शांति से रिटायरमेंट देने के लिए उठाया कदम


पिछले सप्ताह के अंत में यह घटना घटी. जब एक्स-रे स्कैन कराया गया तो इवांस के पेट में 2.4 कैरेट की अंगूठी होने की पुष्टि हुई. इवांस का कहना है कि जब उसके पेट से अंगूठी निकालने की प्रक्रिया शुरू हुई तो उसे उसकी मृत्यु होने से संबंधित रिलीज फॉर्म पर हस्ताक्षर करने को कहा गया.

टिप्पणियां

किसान की पत्‍नी का 1.5 लाख रुपये का मंगल सूत्र निगल गया बैल, 8 दिन बाद हुआ ये

इवांस ने कहा, "इस समय मैं काफी रोई, क्योंकि अगर मैं मर गई तो बड़ी पागल कहलाऊंगी. मैंने इस शापित सगाई की अंगूठी के लिए लंबा इंतजार किया." सर्जरी के बाद पेट से सफलतापूर्वक अंगूठी निकाल ली गई.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... शरद पवार ने नया शिगूफा छोड़ा, कहा- राम मंदिर के लिए ट्रस्ट बन सकता है तो मस्जिद के लिए क्यों नहीं?

Advertisement