Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

Chandrayaan-2 Launch: चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग मोबाइल पर एक क्लिक में देखें Live

चांद पर भारत के दूसरे महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 को सोमवार को यहां से सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 के जरिए प्रक्षेपित किया जायेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Chandrayaan-2 Launch: चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग मोबाइल पर एक क्लिक में देखें Live

Chandrayaan-2 Launch: मोबाइल पर एक क्लिक में देखें Live

चांद पर भारत के दूसरे महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 को सोमवार को श्रीहरिकोटा से सबसे शक्तिशाली रॉकेट जीएसएलवी-मार्क III-एम1 के जरिए प्रक्षेपित किया गया. चेन्नई से लगभग 100 किलोमीटर दूर सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र में दूसरे लांच पैड से चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण अपराह्न दो बजकर 43 मिनट पर किया गया. इस मिशन की लागत 978 करोड़ रुपये है. एक सप्ताह पहले तकनीकी गड़बड़ी आने के बाद चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण रोक दिया गया था. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने 15 जुलाई को मिशन के प्रक्षेपण से 56 मिनट 24 सेकंड पहले मिशन नियंत्रण कक्ष से घोषणा के बाद रात 1.55 बजे इसे रोक दिया था. 

चंद्रयान 2 से क्या मिलेगा भारत को, क्या होंगे तीन सबसे बड़े फायदे...


देखें Chandrayaan-2 Launch Live Streaming:

पानी की खोज, मनुष्य के रहने की संभावना तलाश की जाएगी...
'चंद्रयान-2' के लॉन्च के साथ ही भारत दुनिया का चौथा ऐसा देश बन जाएगा, जिन्होंने चंद्रमा पर खोजी यान उतारा. 'चंद्रयान-2' में मौजूद 1.4 टन का लैंडर 'विक्रम' अपने साथ जा रहे 27-किलोग्राम के रोवर 'प्रज्ञान' को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर दो क्रेटरों के बीच ऊंची सतह पर उतारेगा. लैंडिंग के बाद, 'प्रज्ञान' चांद की मिट्टी का रासायनिक विश्लेषण करेगा.

चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग देखने के लिए 7500 ने कराया ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

वहीं 'विक्रम' चंद्रमा की झीलों को मापेगा और अन्य चीजों के अलावा लूनर क्रस्ट में खुदाई भी करेगा. वर्ष 2009 में चंद्रयान-1 के ज़रिये चंद्रमा की सतह पर पानी के अणुओं की मौजूदगी का पता लगाने के बाद से भारत ने वहां पानी की खोज जारी रखी है, क्योंकि चंद्रमा पर पानी की मौजूदगी से ही भविष्य में यहां मनुष्य के रहने की संभावना बन सकती है.

टिप्पणियां

LIVE: भारत की चांद पर एक और छलांग, ISRO ने लॉन्च किया चंद्रयान-2, 'बाहुबली' रॉकेट लेकर उड़ा

सौरमंडल के शुरुआती गठन की जानकारी तलाशेगा चंद्रयान 2
ISRO प्रमुख के. सिवन ने बताया, मिशन के दौरान जल के संकेत तलाशने के अलावा 'शुरुआती सौर मंडल के फॉसिल रिकॉर्ड' तलाश किए जाएंगे, जिसके ज़रिये यह जानने में भी मदद मिल सकेगी कि हमारे सौरमंडल, उसके ग्रहों और उनके उपग्रहों का गठन किस प्रकार हुआ था.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली में तनाव के बीच एक बार फिर बोले कपिल मिश्रा, 'जिन्होंने बुरहान वानी और अफजल गुरु को आतंकी नहीं माना, वो...'

Advertisement