Cyclone Amphan ने मचाई ऐसी तबाही, स्कूल की छत को उड़ा ले गया तूफान... देखें Viral Video

चक्रवाती तूफान अम्फन (Cyclone Amphan) की वजह से पश्चिम बंगाल (West Bengal) में 12 लोगों की मौत हो गई है. हावड़ा (Howrah) के एक स्कूल की छत को कल तेज हवा ने उड़ा दिया. सोशल मीडिया पर ये वीडियो तेजी से वायरल (Viral Video) हो रहा है. 

Cyclone Amphan ने मचाई ऐसी तबाही, स्कूल की छत को उड़ा ले गया तूफान... देखें Viral Video

स्कूल की छत को उड़ा ले गया Cyclone Amphan, ऐसे मचाई तबाही... देखें Video

चक्रवाती तूफान अम्फन (Cyclone Amphan) की वजह से पश्चिम बंगाल (West Bengal) में 12 लोगों की मौत हो गई है. बुधवार को पश्चिम बंगाल में अम्फन (Amphan) तूफान ने भारी तबाही मचाई. हजारों घरों को तहश-नहश कर दिया. इसके साथ-साथ हजार से अधिक पेड़ उखड़ गए और सैकड़ों बड़ी इमारतों को नुकसान पहुंचा है. कोलकाता और उसके आसपास के इलाकों में हवा की रफ्तार 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रही. जबकि दमदम में शाम 7 बजकर 20 मिनट पर हवा की रफ्तार 133 किमी प्रति घंटे रिकॉर्ड की गई. हावड़ा (Howrah) के एक स्कूल की छत को कल तेज हवा ने उड़ा दिया. सोशल मीडिया पर ये वीडियो तेजी से वायरल (Viral Video) हो रहा है. 

देखें Video:

कोलकाता से कई लोगों ने अपने घर से रिकॉर्ड किए गए वीडियो और फोटो शेयर किए हैं, जिनमें इस साइक्लोन की भयावहता का असर देेेखा जा सकता है. साउथ कोलकाता के साउथ सिटी अपार्टमेंट्स से लिए गए विजुअल्स में देख सकते हैं कि हवा इतनी ताकत से चल रही है कि रोड पर पार्क खड़ी गाड़ियां आपस में टकरा रही हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने कहा कि चक्रवात अम्फान (Cyclone Amphan) का प्रभाव कोरोनावायरस से भी बदतर है. उन्होंने अम्फान तूफान से करीब 1 लाख करोड़ रुपये तक के नुकसान की आशंका जताई. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हताहतों की संख्या 12 तक भी जा सकती है. जबरदस्त तूफानों में से इस चक्रवाती तूफान ने दो जिलों को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया.

बता दें कि चक्रवात दोपहर में करीब ढाई बजे पश्चिम बंगाल में दीघा और बांग्लादेश में हटिया द्वीप के बीच तट पर पहुंचा. चक्रवात के कारण तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही हुई. चक्रवात की वजह से बड़ी संख्या में पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए वहीं कच्चे मकानों को भी खासा नुकसान हुआ. अधिकारियों के अनुसार चक्रवात आने से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा में कम से कम 6.58 लाख लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था.