NDTV Khabar

उत्तर प्रदेश में दीपिका, सोनाक्षी, रानी और जैकलीन भी उठा रही हैं 'बीपीएल कार्ड' पर राशन!

12 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
उत्तर प्रदेश में दीपिका, सोनाक्षी, रानी और जैकलीन भी उठा रही हैं 'बीपीएल कार्ड' पर राशन!

खास बातें

  1. फर्रुखाबाद जिले के कायमगंज में इन कार्ड पर राशन भी उठाया जा रहा है
  2. कार्ड पर इन सभी अभिनेत्रियों को 'विवाहित' बताया गया है
  3. अधिकारियों को मामले में शरारत की आशंका, जांच के आदेश दिए गए
फर्रुखाबाद: बॉलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्रियां दीपिका पादुकोण, जैकलीन फर्नांडीज, सोनाक्षी सिन्हा और रानी मुखर्जी भले ही मुंबई की बहुमंजिला इमारतों में रहती हों, लेकिन उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के कायमगंज क्षेत्र में इन लोगों के गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) श्रेणी के राशन कार्ड बने हैं और उन पर बाकायदा राशन भी बांटा जा रहा है.

जिलाधिकारी प्रकाश बिंदु ने बताया कि कायमगंज तहसील के साहबगंज गांव के निवासियों ने बीपीएल परिवारों को जारी किए जाने वाले 'अंत्योदय' राशन कार्डधारकों में दीपिका पादुकोण, जैकलीन फर्नांडीज, सोनाक्षी सिन्हा और रानी मुखर्जी के नाम शामिल किए जाने और उन पर फर्जी तरीके से राशन बांटे जाने की शिकायत की थी.

उन्होंने बताया कि कायमगंज तहसील के उपजिलाधिकारी अजीत कुमार द्वारा बुधवार को उन्हें भेजी गई रिपोर्ट में पाया गया है कि गांव में 169 परिवारों के राशन कार्ड बने हैं. उनमें से अंत्योदय श्रेणी के 40 कार्ड धारकों में बॉलीवुड की कई जानी-मानी अभिनेत्रियों के नाम शामिल हैं और उन सभी को 'विवाहित' भी बताया गया है.

बिंदु ने बताया कि उपजिलाधिकारी की रिपोर्ट के अनुसार राशनकार्ड की सूची में दीपिका पादुकोण पत्नी राकेश चंद्र, जैकलीन फर्नांडीज पत्नी साधुलाल, रानी मुखर्जी पत्नी राम स्वरूप और सोनाक्षी सिन्हा पत्नी रमेशचंद्र लिखा गया है. इनमें से दीपिका को सामान्य श्रेणी, जबकि बाकी के अंत्योदय श्रेणी के राशन कार्ड हैं. इन राशन कार्ड पर राशन भी दिया जा रहा था.

जिलाधिकारी ने बताया कि उन्होंने उपजिलाधिकारी को दिए गए आदेशों में कहा है कि मामले की जांच कर पता लगाया जाए कि यह सूची में नाम लिखने वाले की शरारत तो नहीं है. यह भी हो सकता है कि सूची में पति के नाम पर जिन लोगों का नाम लिखा हो, वे पात्र की श्रेणी में आते हों, लिहाजा इसकी जांच की जाए. अगर वे कार्ड गलत तरीके से जारी हुए हों, तो उन्हें रद्द कर दोषी कर्मचारियों और कोटेदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement