NDTV Khabar

अब होगा डेंगू फैलाने वाले मच्छरों का खात्मा, अंडों से निकलेंगे ही नहीं बच्चे

बारिश के समय आता है और डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी आ जाती है. इस बीमारी से मौत तक हो सकती है. इससे बचने के लिए कई तरह के प्रयोग हुए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब होगा डेंगू फैलाने वाले मच्छरों का खात्मा, अंडों से निकलेंगे ही नहीं बच्चे

अब खत्म होगा डेंगू फैलाने वाले मच्छरों का खात्मा.

बारिश के समय आता है और डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी आ जाती है. इस बीमारी से मौत तक हो सकती है. इससे बचने के लिए कई तरह के प्रयोग हुए. इससे बचने के लिए कई चीजें की गई. लेकिन अब एक ऐसा प्रयोग हुआ है जिससे डेंगू जड़ से खत्म हो सकता है. इस ऐतिहासिक प्रयोग से 80 प्रतिशत से ज्यादा मच्छरों का खात्मा हो गया है. भारत के कई बड़े शहरों में डेंगू जैसी बीमारी फैली हुई है. इस प्रयोग से भारत को बड़ा आराम मिल सकता है.

मानसून से पहले ही दिल्ली में मच्छरों का आतंक : अस्पताल में आने लगे डेंगू-मलेरिया के मरीज, इस तरह करें बचाव

ऑस्ट्रेलिया के एक शहर में एक ऐतिहासिक प्रयोग के दौरान डेंगू फैलाने वाले 80 प्रतिशत से ज्यादा मच्छरों का खात्मा हो गया. वैज्ञानिकों ने आज यह जानकारी दी और उम्मीद जताई कि इस परीक्षण के जरिए दुनिया भर में इस खतरनाक कीट से निपटा जा सकता है. ऑस्ट्रेलिया की राष्ट्रीय विज्ञान इकाई सीएसआईआरओ के अनुसंधानकर्ताओं ने जेम्स कुक यूनिवर्सिटी की प्रयोगशाला में नहीं काटने वाले लाखों नर एडीस एजिप्टी मच्छर पैदा किए. 

खुशखबरी! भारतीय वैज्ञानिकों का कारनामा, डेंगू के इलाज के ल‍िए बनाई दुनिया की पहली दवाई

गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट ने इस परियोजना का वित्तपोषण किया है. इन मच्छरों को वोलबाचिया विषाणु से संक्रमित किया गया जिसने उन्हें जीवाणुहीन बना दिया यानि उनका असर खत्म कर दिया. उसके बाद उन्हें क्वींसलैंड शहर के आसपास जंगल में परीक्षण स्थल पर छोड़ दिया गया जहां उन्होंने करीब तीन माह तक मादा मच्छरों के साथ संसर्ग किया.

दिल्ली में डेंगू के 705 नए मामले सामने आए, आंकड़ा बढ़कर 8,063 हुआ

टिप्पणियां
नतीजन उन्होंने ऐसे अंडे दिए जिसमें से बच्चे नहीं निकले और इनकी आबादी में गिरावट हई. एडीस एजिप्टी मच्छर विश्व के सबसे खतरनाक कीटों में से एक है जो डेंगू , जीका और चिकनगुनिया जैसी जानलेवा बीमारियां फैलाने में सक्षम है. 

देखें VIDEO: वायरस से फैलता है डेंगू और चिकुनगुनिया, जानें बचाव के उपाय

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement