देखिए, कैसे बाराबंकी नहर में फंसे एक अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचाया गया, Video

उत्तर प्रदेश में कल एक गंगा नदी के बड़े ही अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचा लिया गया, वह रास्ता भटक गया था, जिसकी वजह से वह बाराबंकी नहर में आ गिरा.

देखिए, कैसे बाराबंकी नहर में फंसे एक अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचाया गया, Video

देखिए, कैसे बाराबंकी नहर में फंसे एक अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचाया गया, Video

बाराबंकी:

उत्तर प्रदेश में कल एक गंगा नदी के बड़े ही अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचा लिया गया, वह रास्ता भटक गया था, जिसकी वजह से वह बाराबंकी नहर में आ गिरा. उत्तर प्रदेश वन विभाग (Uttar Pradesh Forest Department) और कछुआ उत्तरजीविता गठबंधन के स्टाफ (Turtle Survival Alliance) सदस्यों ने एक साथ मिलकर इस अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचाया. टर्टल सर्वाइवल एलायंस (TSA) द्वारा साझा किए गए ट्विटर पोस्ट के अनुसार, 4.2 फुट लंबा नर डॉल्फिन रास्ता भटक गया और बाराबंकी में एक नहर में घंटों तक फंसा रहा. जिला अधिकारी ने कहा, कि गंगा नदी की ये डॉल्फिन शारदा नहर में मिली थी.

टीएसए की क्विक रिस्पांस टीम ने राज्य वन विभाग के साथ मिलकर संयुक्त ऑपरेशन में डॉल्फिन को सफलतापूर्वक बचाने और घाघरा नदी में छोड़ने का काम किया. उन्होंने ट्विटर पर बचाव अभियान से तस्वीरें साझा कीं हैं. तस्वीरों में आप देख सकते हैं, कैसे टीम के सदस्य समुद्री स्तनपायी पर पानी छिड़क रहे हैं, इसे एक स्ट्रेचर पर ले जा रहे हैं और इसे नदी में छोड़ देते हैं.

डॉ, शैलेन्द्र सिंह (जलीय वन्यजीव जीवविज्ञानी), जो कछुए की उत्तरजीविता एलायंस का नेतृत्व कर रहे हैं, उन्होंने भी डॉल्फिन बचाव अभियान से एक फोटो पोस्ट की है, जिसमें लिखा है, "बाराबंकी यूपी में नदी डॉल्फिन सप्ताह में नहर में फंसे एक अच्छे गंगा नदी के नर डॉल्फिन को बचाने से बेहतर क्या हो सकता है।" ?  

Newsbeep

वरिष्ठ भारतीय वन सेवा अधिकारी रमेश पांडे ने भी बचाव की प्रशंसा करते हुए ट्विटर पर लिखा, "वास्तव में यह एक बड़ा बचाव कार्य है, जिसमें विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, अक्सर 'टाइगर ऑफ द गंगा' के नाम से जानी जाने वाली नदी डॉल्फिन एक इंडिकेटर एनिमल है, जिसका स्थान जंगल में रहने वाले एक बाघ की तरह ही समान है. यह भारत का राष्ट्रीय जलीय जंतु है. बाँधों और बैराज के निर्माण, नदियों की अंधाधुंध मछली पकड़ने और प्रदूषण के कारण प्रत्यक्ष हत्या, निवास स्थान का विखंडन, प्रजातियों को प्रभावित करने वाले कुछ प्रमुख खतरे हैं.