NDTV Khabar

Dussehra 2018: श्रीलंका की इस गुफा में रखा गया था रावण का शव! जानें क्या हुआ था वध के बाद

19 अक्टूबर (19 October) यानी शुक्रवार को दशहरा (Dussehra 2018) भारत में धूमधाम से मनाया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Dussehra 2018: श्रीलंका की इस गुफा में रखा गया था रावण का शव! जानें क्या हुआ था वध के बाद

Dussehra 2018: मान्यता है कि इस स्थान पर मौजूद गुफा में रावण का शव रखा गया था.

19 अक्टूबर (19 October) यानी शुक्रवार को दशहरा (Dussehra 2018) भारत में धूमधाम से मनाया जाएगा. इसी दिन भगवान श्रीराम ने रावण (Ravana) का वध कर बुराई पर अच्छाई की जीत हासिल की थी. मान्यता है कि नवरात्र के दसवें दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था, इसलिए इस विजयदशमी (VijayaDashami) मनाई जाती है.

Honor Dussehra Sale में Honor 7A और Honor 8 Pro को 1 रुपये में खरीदने का मौका

श्रीलंका में आज भी रामायण (Ramayana) से जुड़े कई ऐतिहासिक स्थल मौजूद हैं, जिनके बारे में हर कोई जानना चाहता है. श्रीलंका में कई ऐसे स्थान हैं जो बीते हुए रामायण काल के इतिहास की गवाही देते हैं. बता दें, रिसर्च में श्रीलंका में 50 ऐसे स्थल खोजने का दावा किया गया है जिनका संबंध रामायण से है. इसी रिसर्च में निकलकर आया है कि रावण का शव एक गुफा में रखा गया था. जो श्रीलंका रैगला के जंगलों के बीच मौजूद है. श्रीलंका का इंटरनेशनल रामायण रिसर्च सेंटर और वहां के पर्यटन मंत्रालय ने मिलकर ये खोज की थी. आइए जानते हैं इस गुफा के बारे में...

टिप्पणियां
Sharad Navratri 2018: हर दिन के लिए नवरात्रि के रंग और आहार यहां जानें
 
sigiriya

इस बात को तो सभी जानते हैं कि जब भगवान श्रीराम और लंकाधिपति रावण के बीच युद्ध हुआ था, तब राम के हाथों रावण का वध हुआ था और यह भी जानते हैं कि रावण के अंतिम संस्कार के लिए उसके शव को रावण के भाई विभीषण को सौंपा गया था. विभीषण को लंकाधिपति रावण का शव सौंपे जाने के बाद रावण का अंतिम संस्कार हुआ भी था या नहीं इस बात को शायद कोई नहीं जानता है. दावा है कि यहां रावण की गुफा है, जहां उसने तपस्या की थी. मान जाता है कि उसी गुफा में रावण का शव रखा गया था. रैगला के इलाके में यह गुफा 8 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है. 

'राम-लक्ष्मण' और 'भरत-शत्रुघ्न' के बीमार होने से रोकने की पड़ी 250 सालों से जारी वाराणसी की रामलीला
 
ashok vatika

रावण ने यहां रखा था सीता को
मान्यताओं के मुताबिक, अशोक वाटिका वो जगह है जहां रावण ने माता सीता को रखा था. आज इस जगह को सेता एलीया के नाम से जाना जाता है, जो की नूवरा एलिया नामक जगह के पास स्थित है. यहां आज सीता का मंदिर है और पास ही एक झरना भी है. इस झरने के आसपास की चट्टानों पर हनुमान जी के पैरों के निशान भी मिलते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement