NDTV Khabar

इंजीनियर की नौकरी छोड़ लौटा गांव, खेती से कमा रहा 5 लाख रुपए

विनोद कुमार ने 2013 में मानेसर पॉलिटेक्निक से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया. इसके बाद दो साल तक नौकरी की. विनोद जब कभी गांव आते और पिता को खेतों में काम करते देखते तो उनका भी मन गांव आने का होता. उधर प्राइवेट नौकरी में बेहद कम सैलरी मिलने के चलते भी विनोद का रुझान खेती की ओर हो रहा था.

2.7K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंजीनियर की नौकरी छोड़ लौटा गांव, खेती से कमा रहा 5 लाख रुपए

विनोद कुमार ने दो साल इंजीनियर की नौकरी की. तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  1. हरियाणा के विनोद कुमार ने दो साल मैकेनिकल इंजीनियर के तौर पर की नौकरी
  2. कम सैलरी के चलते नौकरी से थे परेशान
  3. मोती की खेती शुरू की और कर रहे मोटी कमाई
नई दिल्ली: हमारे समाज में उच्च शिक्षा ग्रहण करने के बाद लोग नौकरी की तलाश करते रहते हैं. कई बार तो वे बेहद कम सैलरी पर नौकरी करने को तैयार हो जाते हैं, लेकिन खेती या व्यवसाय नहीं करना चाहते हैं, ऐसे लोगों के सामने गुड़गांव  विनोद कुमार मिसाल पेश कर रहे हैं. गुड़गांव के फरूखनगर तहसील के गांव जमालपुर के रहने वाले विनोद कुमार ने इंजीनियर की नौकरी छोड़कर मोती की खेती शुरू की और आज वह मालामाल हो गए हैं. आज आलम यह है कि वह हर साल अपने अपने परिवार और खेती का सारा खर्च उठाने के बाद भी पांच लाख रुपए तक बचा लेते हैं. विनोद की यह कहानी से कई लोगों को प्रेरणा मिल सकती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विनोद कुमार ने 2013 में मानेसर पॉलिटेक्निक से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया. इसके बाद दो साल तक नौकरी की. विनोद जब कभी गांव आते और पिता को खेतों में काम करते देखते तो उनका भी मन गांव आने का होता. उधर प्राइवेट नौकरी में बेहद कम सैलरी मिलने के चलते भी विनोद का रुझान खेती की ओर हो रहा था.

टिप्पणियां
इसी बीच विनोद ने काफी दिनों तक इंटरनेट पर खेती के तरीके और फायदे कमाने के गुर सीखे. इसके बाद वे नौकरी छोड़कर गांव आ गए. पहले तो मां-पिता ने उनके इस फैसले के प्रति नाराजगी जताई. गांव आकर विनोद ने मोती की खेती शुरू की. खेती शुरू करने से पहले विनोद ने सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ फ्रेश वॉटर एक्वाकल्चर (सीफा) भुवनेश्वर में जाकर एक सप्ताह ट्रेनिंग ली. 

उन्होंने मेरठ, अलीगढ़ व साउथ से 5 रुपए से 15 रुपए में सीप खरीदी. इन सीप को 10 से 12 महीने तक पानी के टैंक में रखा जाता है. जब सीप का कलर सिल्वर हो जाता है तो मानो मोती तैयार हो गया है. इस खेती को शुरू करने में 60 हजार रुपए खर्च हुआ. विनोद ने बताया कि मोती की कीमत उसकी क्वालिटी देकर तय की जाती है. एक मोती की कीमत 300 रुपए से शुरू होकर 1500 रुपए तक है. उन्होंने बताया कि वे हर साल करीब 2000 सीप पैदा कर लेते हैं, जिससे उन्हें पांच लाख रुपए तक की कमाई हो जाती है. विनोद ने कहा कि जो भी पढ़े-लिखे युवा हैं वे केवल नौकरी पर आश्रित न रहें, वे अपनी पढ़ाई का इस्तेमाल व्यवसाय और खेती के लिए करें.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement