पांच लाख रुपये में कपल ने ऑनलाइन खरीदी बिल्ली, डिब्बा खोला तो निकला बाघ का बच्चा, और फिर...

फ्रेंच कपल (French Couple) घर में बिल्ली पालना चाहते थे. उन्होंने ऑनलाइन 6 हजार यूरो (5 लाख रुपये) में एक बिल्ली (Savannah Cat) खरीदी. जब डिलिवरी बॉक्स खोला तो अंदर से एक बाघ का बच्चा (Tiger Cub) निकला.

पांच लाख रुपये में कपल ने ऑनलाइन खरीदी बिल्ली, डिब्बा खोला तो निकला बाघ का बच्चा, और फिर...

पांच लाख रुपये में कपल ने ऑनलाइन खरीदी बिल्ली, डिब्बा खोला तो...

फ्रेंच कपल (French Couple) घर में बिल्ली पालना चाहते थे. उन्होंने ऑनलाइन 6 हजार यूरो (5 लाख रुपये) में एक बिल्ली (Savannah Cat) खरीदी. जब डिलिवरी बॉक्स खोला तो अंदर से एक बाघ का बच्चा (Tiger Cub) निकला. डेली मेल की खबर के मुताबिक, नॉरमैंडी के अज्ञात जोड़े ने बिल्ली के लिए एक ऑनलाइन विज्ञापन देखा और इसे एक पालतू जानवर के रूप में प्राप्त करने का फैसला किया. जब डिलीवरी बॉक्स घर में आया तो वो बिल्ली की बजाय तीन महीने का बाघ का बच्चा निकला.

2018 में बिल्ली के बच्चे को अपनाने के एक हफ्ते के बाद, ला हैवर दंपति ने महसूस किया कि यह बिल्ली नहीं, बल्कि एक जंगली जानवर है. आखिर में उनकी पता चला कि यह बाघ का बच्चा है. उन्होंने इसके बाद पुलिस से संपर्क किया. दो साल तक लंबी जांच चली और अब फैसला आया.

इस दंपति ने दावा किया कि उन्हें इस बात का अहसास नहीं था कि उनकी बिल्ली वास्तव में इंडोनेशिया का एक सुमात्रा टाइगर है. बता दें, बिल्लियां पालतू जानवर के रूप में स्वीकार्य हैं, बाघ एक संरक्षित प्रजाति हैं जिन्हें उचित प्रलेखन और परमिट के बिना पालतू जानवरों के रूप में नहीं रखा जा सकता है. उन्हें बिना कागजी कार्रवाई के भी नहीं ले जाया जा सकता है.

Newsbeep

स्थानीय रिपोर्टों के अनुसार, मामले का विवरण हाल ही में सामने आया था जब बड़ी बिल्ली खरीदने वाले दंपत्ति सहित नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया था. दंपति पर संरक्षित प्रजातियों की तस्करी का आरोप लगाया गया था और बाद में उन्हें पुलिस ने रिहा कर दिया. अभियोजकों ने अन्य संदिग्धों पर पशु तस्करी और संगठित अपराध का आरोप लगाया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अब तक यह साफ नहीं हो पाया है कि फ्रांस में यह जानवर कैसे आया. कपल द्वारा खरीदे जाने से पहले इसका वीडियो सामने आया था. पशु अच्छे स्वास्थ्य में प्रतीत होता है और उसे फ्रांसीसी जैव विविधता कार्यालय को सौंपा गया है. अंत में इसे नया घर दिया गया.