यह ख़बर 07 अप्रैल, 2012 को प्रकाशित हुई थी

जब शमशान में फिर धड़क उठा नवजात का दिल!

जब शमशान में फिर धड़क उठा नवजात का दिल!

खास बातें

  • राजस्थान के कोटा के एक निजी नर्सिंग होम के चिकित्सकों द्वारा एक नवजात को मृत घोषित किए जाने के बाद श्मशान में उसकी धड़कन फिर से चलने लगी है।
जयपुर:

राजस्थान के कोटा के एक निजी नर्सिंग होम के चिकित्सकों द्वारा एक नवजात को मृत घोषित किए जाने के बाद श्मशान में उसकी धड़कन फिर से चलने लगी है। परिजन नवजात को श्मशान ले गए थे, लेकिन दफनाने से ठीक पहले फिर उसकी धड़कन चलने लगी और परिजन उसे लेकर से फिर से लेकर जिला अस्पताल पहुंच गये।

निजी नर्सिग होम संचालक ने माना कि नर्सिग कर्मचारी ने शिशु में सांसे नहीं देखकर परिजनों को सौंप दिया था लेकिन बाद में उसकी सांसे फिर से चलने लगी। नर्सिग होम सूत्रों के अनुसार अमित कुमार की पत्नी रेणु ने शनिवार को नवजात बच्ची हुई थी। उसका वजन काफी कम था और उसका शरीर नीला पड़ा हुआ था। उन्होंने बताया कि जन्म के समय नवजात बच्ची के सांस नहीं लेने के कारण यह स्थिति बनी।

इधर परिजनों के अनुसार परिजन नवजात को दफनाने की तैयारी कर रहे थे उसी दौरान नवजात के हाथ पांव में हलचल देखकर उसे नजदीकी निजी अस्पताल ले गए जहां देर शाम तक धड़कन चल रही थी।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com