Teachers' Day 2019: जब शाकाहारी सर्वपल्ली राधाकृष्णन की थाली में चीनी नेता ने डाल दिया नॉन-वेज और फिर...

शिक्षक दिवस (Teachers' Day 2019) 5 सितंबर को मनाया जाता है. गूगल (Google) ने डूडल (Google Doodle) के जरिए सर्वपल्ली राधाकृष्णन का बर्थडे सेलीब्रेट कर रहा है. उनका जन्मदिन (5 September) भारत में शिक्षक दिवस (Teachers Day) के रूप में मनाया जाता है.

Teachers' Day 2019: जब शाकाहारी सर्वपल्ली राधाकृष्णन की थाली में चीनी नेता ने डाल दिया नॉन-वेज और फिर...

Sarvepalli Radhakrishnan के 3 किस्से, जो बहुत कम लोग जानते हैं

Teacher's Day 2019: शिक्षक दिवस (Teachers' Day 2019) 5 सितंबर को मनाया जाता है. भारत के पहले राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Sarvepalli Radhakrishnan) के जन्मदिन पर शिक्षक दिवस मनाया जाता है. उनका जन्म 5 सितंबर 1888 को हुआ था. गूगल (Google) ने डूडल (Google Doodle) के जरिए सर्वपल्ली राधाकृष्णन का बर्थडे सेलीब्रेट कर रहा है. उनका जन्मदिन (5 September) भारत में शिक्षक दिवस (Teachers Day) के रूप में मनाया जाता है. वो भारत के दूसरे राष्ट्रपति भी रहे. राष्ट्रपति और दो बार उपराष्ट्रपति का पद सुशोभित करने वाले सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Dr Sarvepalli Radhakrishnan) बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) के वर्ष 1939 से 1948 तक वाइस चांसलर भी रहे. 5 सितंबर को शिक्षक से भारत के राष्ट्रपति तक का पद संभालने वाले डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन की 132वीं जयंती है. ऐस मौके पर हम आपको पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन से जुड़ी एक किस्सा बता रहे हैं जो शायद आपने पहले नहीं सुनी होगी.

Teachers' Day: धूल थे आसमां बन गये, आपकी शिक्षा से हम क्या से क्या बन गये...शिक्षक को इन पॉपुलर शायरी से दें टीचर्स डे की बधाई

d2ul6l2o

वेजीटेरियन राधाकृष्णन की थाली में माओ ने डाला मांसाहार खाना
डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन के इसी चीन यात्रा से जुड़ा एक और वाक्य बेहद रोचक है. बताया जाता है कि माओ और राधाकृष्णन एक साथ बैठकर भोजन कर रहे थे. तभी माओ ने खाते-खाते बहुत अपनापन दर्शाने के लिए चॉपस्टिक से अपनी प्लेट से खाने का एक कौर उठा कर राधाकृष्णन की प्लेट में रख दिया. दिलचस्प बात यह है कि माओ को नहीं पता था कि राधाकृष्णन पूरी तरीके से शाकाहारी हैं. माओ के इस प्यार का राधाकृष्णन ने भी सम्मान किया. उन्होंने ऐसा माओ को अहसास नहीं होने दिया कि उन्होंने कोई गलती की है.

Sarvepalli Radhakrishnan: ये हैं डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के 10 अनमोल विचार

br86049

जब माओ के थपथपाए थे गाल
साल 1957 का वाक्या है. भारत के तत्कालीन उपराष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन चीन के दौरे पर गए थे. उस वक्त माओ चीन के प्रसिद्ध नेता थे, या यूं कहें कि उस देश की राजनीति इन्हीं के इर्द-गिर्द घुम रही थी. माओ ने राधाकृष्णन को मिलने के लिए अपने घर पर आमंत्रित किया. राधाकृष्णन कुछ भारतीय अधिकारियों के साथ माओ से मिलने उनके घर चुग नान हाई पहुंचे. यहां माओ उनकी अगवानी के लिए अपने आंगन में खड़े थे. आंगन में दाखिल होते ही दोनों नेताओं ने आपस में हाथ मिलाया. इसके बाद राधाकृष्णन ने माओ के गाल को थपथपा दिए. इस बर्ताव पर माओ के कुछ बोलने से पहले राधाकृष्णन ने ऐसी बात कह दी कि शायद वे चाहकर भी कुछ नहीं कह सके. गाल थपथपाने के बाद सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने माओ से कहा,  'अध्यक्ष महोदय, परेशान मत होइए. मैंने यही स्टालिन और पोप के साथ भी किया है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Teachers Day Quotes: एक किताब, एक कलम, एक बच्चा, और एक शिक्षक दुनिया को बदल सकते हैं, पढ़ें ऐसे ही दमदार विचार

sarvepalli radhakrishnan

राधाकृष्णन की कटी अंगुली देखकर द्रवित हो गए माओ
राधाकृष्णन और माओ से जुड़ा एक और किस्सा बेहद रोचक है. चीन यात्रा पर जाने से पहले राधाकृष्णन कंबोडिया गए थे. यहां उनके साथ गए सहयोगी की गलती के चलते कार के दरवाजे से राधाकृष्णन की अंगुली की हड्डी टूट गई थी. राधाकृष्णन जब चीन पहुंचकर माओ से मिले तो उनकी नजर अंगुली पर गई. उन्होंने पहले तत्काल अपने डॉक्टर को बुलाकर उसका मलहम-पट्टी कराया. इसी दौरान उन्होंने उनसे अंगुली के चोटिल होने की वजह जानी.