कोरोनावायरस के डर से मीट नहीं खा रहे थे लोग तो यहां रखा गया चिकन मेला और उमड़ पड़े लाखों लोग

पॉल्ट्री फार्म एसोसिएशन ने शनिवार को गोरखपुर में चिकन मेला का आयोजन किया. एसोसिएशन ने यह आयोजन उन अफवाहों को खारिज करने के लिए किया था जिनके अनुसार, पक्षियों से कोरोनावायरस फैलता है.

कोरोनावायरस के डर से मीट नहीं खा रहे थे लोग तो यहां रखा गया चिकन मेला और उमड़ पड़े लाखों लोग

गोरखपुर में किया गया चिकन मेले का आयोजन.

गोरखपुर:

चिकन की एक फुल प्लेट मात्र 30 रुपये में- यह सुनकर हैरानी हो सकती है, लेकिन गोरखपुर (Gorakhpur) में चिकन प्रेमियों का यह सपना सच हो गया, जब पॉल्ट्री फार्म एसोसिएशन ने शनिवार को यहां चिकन मेला का आयोजन किया. एसोसिएशन ने यह आयोजन उन अफवाहों को खारिज करने के लिए किया था जिनके अनुसार, पक्षियों से कोरोनावायरस (Coronavirus) फैलता है.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से प्रभावित मलेशिया से लौटे भारतीय की केरल में मौत

पॉल्ट्री फॉर्म एसोसिएशन के अध्यक्ष विनीत सिंह ने कहा कि कोरोनावायरस के डर से लोगों ने पिछले एक महीने से चिकन खाना बंद कर दिया था.

उन्होंने कहा, "हमने इस मेले का आयोजन किया, जिसमें हमने लोगों को चिकन खाने के लिए बुलाया. हम उन्हें बताना चाहते थे कि कोरोनावायरस चिकन, मटन या मछली खाने से नहीं होता. मेला के लिए हमने लगभग एक हजार किलोग्राम चिकन पकाया और पूरा स्टॉक खत्म हो गया."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस: ईरान में मरने वालों की संख्या पहुंची 26 पर, चपेट में उपराष्ट्रपति भी

गोरखपुर रेलवे स्टेशन के सामने आयोजित चिकन मेला में भारी संख्या में भीड़ आई और इसके कारण रेलवे स्टेशन जाने वाली सड़क घंटों तक बंद रही.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)