NDTV Khabar

धरती पर जीवन कैसे आया? वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला सही जवाब, चंद्रमा का भी है अहम रोल

भारतीय मूल के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में हुए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हो गया कि आखिर चंद्रमा कैसे और कब बना.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
धरती पर जीवन कैसे आया? वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाला सही जवाब, चंद्रमा का भी है अहम रोल
वाशिंगटन:

पृथ्वी पर जीवन के लिए जरूरी कार्बन, नाइट्रोजन और अन्य ऐसे तत्वों की प्राप्ति ग्रहों की टक्कर की उस घटना के बाद हुई जिसके परिणामस्वरूप 4.4 अरब वर्ष पहले चंद्रमा की उत्पत्ति हुई थी. यह बात भारतीय मूल के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में हुए एक अध्ययन में सामने आई है.

अमेरिका की राइस यूनिवर्सिटी के राजदीप दासगुप्ता ने कहा, "प्राचीन काल में उल्कापिंडों के अध्ययन के आधार पर वैज्ञानिकों को लंबे समय से ज्ञात था कि पृथ्वी और सौर मंडल की आंतरिक कक्षाओं में स्थित चट्टानों वाले अन्य ग्रहों में विघटन होकर तत्व निकलते रहते हैं, लेकिन इसके समय और प्रणाली पर बहस चलती रही."

चंद्रमा पर हुआ कमाल : कपास का बीच अंकुरित होकर पौधे में तब्दील होने की स्थिति में!


'साइंस एडवांसेस' नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के सह-लेखक दासगुप्ता के अनुसार, "हमारी खोज पहली है जो सभी भू-रासायनिक साक्ष्यों के अनुरूप समय की व्याख्या कर सकती है." राइस यूनिवर्सिटी के स्नातक के छात्र दमनवीर ग्रेवाल ने प्रयोगों की कड़ी में लंबे समय से माने जा रहे इस सिद्धांत के परीक्षण के लिए साक्ष्य जुटाए कि पृथ्वी पर जीवन के लिए जिम्मेदार तत्व एक ग्रह के साथ टक्कर के बाद पैदा हुए जिसके केंद्र में सल्फर की बहुतायत थी.

चंद्रमा की दूसरी तरफ यान उतारने वाला चीन बना पहला देश, जानिए कैसे रचा इतिहास

ग्रेवाल के अनुसार पृथ्वी पर कार्बन-नाइट्रोजन का अनुपात और कार्बन, नाइट्रोजन तथा सल्फर की पूरी मात्रा चंद्रमा की उत्पत्ति के संगत है.

टिप्पणियां

इनपुट - भाषा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement