NDTV Khabar

अस्पताल में 4 नर्सों ने नाचते हुए बनाया टिक-टॉक वीडियो, वायरल होने के बाद मिली ये सजा

सीडीएमओ ने बुधवार को नर्सों को तब कारण बताओ नोटिस जारी किया जब उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अस्पताल में 4 नर्सों ने नाचते हुए बनाया टिक-टॉक वीडियो, वायरल होने के बाद मिली ये सजा

चार नर्सों ने बनाया टिक-टॉक वीडियो, फिर हुई कार्रवाई

खास बातें

  1. अस्पताल में 4 नर्सों ने नाचते हुए बनाया टिक-टॉक वीडियो
  2. वायरल होने के बाद अधिकारी ने नर्सों को छुट्टी पर भेजा
  3. मामले की जांच करने के लिए एक कमेटी बनाई गई
मलकानगिरि:

ओडिशा में चार नर्सों को टिक-टॉक एप्लीकेशन पर वीडियो पोस्ट करना महंगा पड़ गया है. चारों नर्सों को अस्पताल से छुट्टी पर भेज दिया गया है. यह जानकारी एक अधिकारी ने दी. इस वीडियो को ओडिशा के मलकानगिरि में जिला अस्पताल के विशेष नवजात देखभाल केंद्र में रिकॉर्ड किया गया था. अधिकारी ने बताया, 'मलकानगिरि के जिला मजिस्ट्रेट मनीष अग्रवाल ने मुख्य जिला चिकित्सा कार्यालय अधिकारी अजीत कुमार मोहंती की सलाह पर चारों नर्सों को छुट्टी पर भेजने का आदेश दिया.'

इस प्रोफेसर ने प्लास्टिक से बनाया पेट्रोल, कीमत 40 रुपये का 1 लीटर   

अधिकारी ने बताया, 'इस मामले की जांच करने के लिए एक कमेटी बनाई गई है. जांच रिपोर्ट के आने के बाद कार्रवाई की जाएगी.' वीडियो पोस्ट करने वाली चार नर्सों का नाम रूबी रे, तापसी विश्वास, सपना बाला और नंदिनी रे है. उन पर जिला चिकित्सा अस्पताल के अंदर लापरवाही और टिक-टॉक के लिए वीडियो रिकॉर्ड करने का आरोप है. 


सीडीएमओ ने बुधवार को नर्सों को तब कारण बताओ नोटिस जारी किया जब उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इस वीडियो में चारों नर्स अस्पताल की ड्रेस में गाना गाते हुए और डांस करते हुए दिखाई दे रही हैं. बता दें कि टिक-टॉक एक एप्लीकेशन है जिस पर छोटे-छोटे वीडियो पोस्ट किए जाते हैं.

टिप्पणियां

दूसरी मंजिल से गिरी 2 साल की बच्ची, फरिश्ता बन आए लड़के ने यूं बचाई जान, देखें VIDEO 

अधिकारी ने बताया, 'चारों नर्सों ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्होंने अपनी ड्यूटी खत्म होने के बाद वीडियो बनाया था. हालांकि नर्सों ने अस्पताल की ड्रेस में वीडियो बनाने की अपनी गलती को मान लिया है.' बता दें कि अस्पताल के विशेष नवजात देखभाल केंद्र में गंभीर रूप से बीमार छोटे बच्चों का इलाज किया जाता है. यह क्षेत्र काफी सेंसटिव होता है. मलकानगिरि क्षेत्र में शिशु मृत्यु दर काफी ज्यादा है. (इनपुट: पीटीआई)
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement