जापानी करोड़पति ने अपने ट्विटर फॉलोअर्स के बीच इस वजह से बांटी 65 करोड़ की राशि...

पिछले साल भी करोड़पति मैइज़ावा ने इसी तरह के प्रयोग में 6.5 करोड़ रुपये की राशि दी थी.

जापानी करोड़पति ने अपने ट्विटर फॉलोअर्स के बीच इस वजह से बांटी 65 करोड़ की राशि...

जापानी करोड़पति ने ट्विटर फोलोअर्स को 65 करोड़ देने की घोषणा की है.

खास बातें

  • जापानी करोड़पति ने ट्विटर फोलोअर्स को 65 करोड़ रुपये देने की घोषणा की है
  • 7 जनवरी तक ट्विटर यूजर्स को ट्वीट रीट्वीट करने थे
  • प्रत्येक यूजर को दिए जाएंगे 6.5 लाख रुपये
नई दिल्ली:

जापानी करोड़पति युसाकू मैइज़ावा (Yusaku Maezawa) अपने ट्विटर फॉलोअर्स को तकरीबन 65 करोड़ रुपये की रकम दे रहे हैं. उनका कहना है कि वे अपने 1,000 ट्विटर फॉलोअर्स के बीच 1 बिलियन येन यानी लगभग 65 करोड़ रुपये की राशि बांटेंगे. ये राशि उन 1,000 फॉलोअर्स को दी जाएगी जिन्हें मैइज़ावा अपने सामाजिक प्रयोग के लिए चुनेंगे. इस प्रयोग का मकसद ये जानना है कि क्या पैंसा इंसान को ज्यादा खुश रखता है? इस राशि को हासिल करने के लिए लोगों को बस इतना करना था कि उन्हें 7 जनवरी से पहले पहले युसाकू मैइज़ावा के ट्वीट को रिट्वीट करना था.

बिल्ली को बचाने के लिए महिला ने अपने ही बच्चे को 5वीं मंजिल पर रस्सी से लटकाया, देखें Shocking Video

मैइज़ावा के 31 दिसंबर के उस ट्वीट को जिसमें उन्होंने इस सोशल एक्सीपेरिमेंट की घोषणा की थी को अब तक 40 लाख से ज्यादा लोगों ने रिट्वीट किया है. उन्होंने एक यूट्यूब वीडियो में बताया कि इस प्रयोग में इनामी राशि पाने वाले 1,000 लोगों का चयन लॉटरी के आधार पर किया जाएगा. चुने जाने वाले ट्विटर यूजर्स को मैसेज के जरिए सूचित किया जाएगा.

बता दें कि पिछले साल भी करोड़पति मैइज़ावा ने इसी तरह के प्रयोग में 6.5 करोड़ रुपये की राशि दी थी. पिछले साल करोड़पित मैइज़ावा के ट्वीट को 50 लाख से ज्यादा रिट्वीट मिले थे. इस साल किए जा रहे प्रयोग को मैइज़ावा ने एक गंभीर सामाजिक प्रयोग बताया है. सीएनएन के मुताबिक उन्होंने कहा कि वे जानना चाहते हैं कि 6.5 लाख रुपये की राशि का एक व्यक्ति के जीवन पर क्या असर पड़ता है? 

Newsbeep

कोबरा निगल गया प्लास्टिक की पूरी बॉटल, तड़पते हुए यूं निकाला बाहर... देखें Viral Video

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने विजेताओं से अपील की है कि वे अपनी मर्जी से पैंसे का इस्तेमाल करें और लगातार सवालों का जवाब देते रहे कि वे उस राशि का प्रयोग किस तरह कर रहे हैं. इस प्रयोग में मैइज़ावा ने सामाजिक वैज्ञानिकों की भी मदद ली है.