NDTV Khabar

जब जज ने 5 साल के बच्चे को दिया पिता की सजा तय करने का मौका...जबाव हुआ वायरल

5 साल के जैकब को अपने पिता के साथ अदालत जाना पड़ा. उसके पिता पर गलत जगह पर अपनी कार पार्क करने का आरोप था. कोर्ट रूम में जब जज ने छोटे से बच्चे को देखा तो उसे अपनी बेंच पर बुला लिया.

1445 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब जज ने 5 साल के बच्चे को दिया पिता की सजा तय करने का मौका...जबाव हुआ वायरल

जज ने बच्चे सामने सजा के तौर पर तीन विकल्प रखे थे...

खास बातें

  1. 5 साल के जैकब के पिता पर था ट्रैफिक रूल तोड़ने का आरोप
  2. कोर्ट रूम में जज ने जैकब को अपनी बेंच पर बुला लिया
  3. अदालत की कार्यवाही को टीवी पर भी प्रासरित किया गया
नई दिल्ली: हर दिन बच्चे कोर्ट में नहीं दिखाई देते. 5 साल के जैकब को अपने पिता के साथ अदालत जाना पड़ा. उसके पिता पर गलत जगह पर अपनी कार पार्क करने का आरोप था. कोर्ट रूम में जब जज ने छोटे से बच्चे को देखा तो उसे अपनी बेंच पर बुला लिया. घटना अमेरिका के रोड महाद्वीप की है. अदालत के जज 80 वर्षीय फ्रैंक कैप्रियो थे. अदालत की कार्यवाही को टीवी पर भी प्रासरित किया गया.

जैकब से जस्टिस ने थोड़ी देर बात की, उसका हालचाल छाना फिर उसके कहा कि वह यातायात नियमों का उल्लंघन करने के दोषी उसके पिता को सजा दिलाने में मदद करे. जज ने बच्चे के सामने तीन विकल्प रखे.

जज ने पूछा - मैं तुम्हारे पिता पर 90 डॉलर का दंड लगाऊं या 30 डॉलर या बिना फाइन लगाए जाने दूं. तुम्हारे ख्याल से मुझे क्या करना चाहिए? उसके बाद जो हुआ उसे जानकर आप वास्तव में हैरान रह जाएंगे. छोटे बच्चे के जवाब ने पूरे कोर्ट परिसर को चकित कर दिया. यहां तक कि जज भी उसका जवाब सुनकर हैरान रह गए. जज ने बच्चे के जवाब से खुश होकर कहा - तुम बहुत अच्छे जज हो.



यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है और एक दिन में 80 लाख लोग इसे देख चुके हैं. सोशल मीडिया में इस बात को लेकर चर्चा हो रही है कि किस तरह से बच्चे ने इस केस को हैंडल किया और अपने पिता का पक्ष भी नहीं लिया. अपने सच्चे जवाब को अपने पिता को बुरी परिस्थिति से बाहर निकाल लाया.

एक यूजर ने लिखा, "छोटे से बच्चे को अपनी बेंच पर बुलाने वाले जज कितने अच्छे हैं क्योंकि बच्चों को सही उम्र में सही और गलत की पहचान होनी चाहिए.. मुझे अच्छा लगा कि उसने किस तरह से अपने पिता को बचाया."

दूसरे यूजर ने लिखा, "हर किसी को ऐसे बेटे का पिता होने पर गर्व होगा. उसने समझा कि उसने कुछ तो गलत नहीं किया है लेकिन उसके पिता ने जरूर कुछ गलत किया है. उसने 30 डॉलर का जुर्माना अपने पिता को नाराज करने के लिए नहीं कहे. बच्चे को मालूम है कि क्या सही है और क्या गलत है." 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement