जानें, बंदरों के भोज की तस्वीर दिखाकर क्या समझाना चाह रही हैं किरण बेदी

जानें, बंदरों के भोज की तस्वीर दिखाकर क्या समझाना चाह रही हैं किरण बेदी

पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी ने अपने ट्विटर पेज पर बंदरों को भोज करते हुए एक तस्वीर ट्वीट किया है.

खास बातें

  • किरण बेदी ने ट्वीट किया बंदरों को भोज करते हुए तस्वीर
  • फोटो के साथ किरण ने लिखा, समाज में सभ्यता लाने के लिए समानता जरूरी है
  • तस्वीर के जरिए समानता का संदेश देने की कोशिश कर रहीं बेदी
नई दिल्ली:

पुडुचेरी की उपराज्यपाल और देश की पहली महिला आईपीएस किरण बेदी ने अपने ट्विटर पेज पर बंदरों को भोज करते हुए एक तस्वीर ट्वीट किया है. पहली नजर में इस तस्वीर को देखकर समझ में नहीं आता है कि आखिर किरण बेदी इस तस्वीर के जरिए क्या कहना चाहती हैं? तस्वीर से नजर हटाकर अगर आप किरण बेदी की लिखी बात पर ध्यान देगें तो समझ में आता है कि वह इस फोटो के जरिए समाज को बड़ा संदेश देना चाहती हैं. किरण बेदी ट्वीट में लिखती हैं, 'समाज में सभ्यता लाने के लिए समानता जरूरी है.' 

दरअसल, इस तस्वीर में ढेर सारे बंदर एक पंक्ति में बैठकर फलों का भोज करते हुए दिख रहे हैं. दुनिया के सबसे चंचल जीव को इस तरह से बैठे देखना अपने आप में अचंभित करने वाला है. किरण बेदी बताने की कोशिश कर रही हैं कि अगर एक जैसा खाना परोसने से सारे बंदर सभ्यता के साथ भोज कर सकते हैं तो भला इंसानों को समान अवसर और अधिकार दे दिए जाएं तो समाज में सारे विवाद खत्म हो जाएंगे.

तीन घंटे में किरण बेदी के इस ट्वीट को करीब 150 लोग रीट्वीट कर चुके हैं. इसके अलावा 835 लोग पसंद भी कर चुके हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मालूम हो कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान किरण बेदी अचानक बीजेपी में शामिल हो गईं थीं. बीजेपी ने इन्हें दिल्ली में मुख्यमंत्री चेहरा बनाया था, लेकिन पार्टी को चुनाव में बुरी हार झेलनी पड़ी थी. इसके बाद नरेंद्र मोदी सरकार ने किरण बेदी को पिछले साल पुडुचेरी का उपराज्यपाल नियुक्त किया था. बीजेपी 2014 के लोकसभा चुनाव में 'सबका साथ, सबका विकास' नारा दिया था. किरण बेदी बंदरों की इस तस्वीर के जरिए भी शायद सबका साथ, सबका विकास नारे को साबित करने की कोशिश कर रही हैं.