Paytm के नाम पर शख्स ने मॉल के मैनेजर को ऐसे लगाया लाखों का चूना, बोला- 'कॉल आया और कहा...'

गुड़गांव (Gurgaon) के एम्बियंस मॉल (Ambience Mall) के मैनेजर के साथ ऑनलाइन फ्रॉड हुआ. उनके साथ किसी ने 1.85 लाख रुपये की ठगी कर ली. मैनेजर अरविंद कपूर (Arvind Kapoor) ने पुलिस थाने में जाकर अपनी शिकायत भी दर्ज कराई है.

Paytm के नाम पर शख्स ने मॉल के मैनेजर को ऐसे लगाया लाखों का चूना, बोला- 'कॉल आया और कहा...'

Paytm के नाम पर शख्स ने मॉल के मैनेजर को ऐसे लगाया लाखों का चूना

गुड़गांव (Gurgaon) के एम्बियंस मॉल (Ambience Mall) के मैनेजर के साथ ऑनलाइन फ्रॉड हुआ. उनके साथ किसी ने 1.85 लाख रुपये की ठगी कर ली. मैनेजर अरविंद कपूर (Arvind Kapoor) ने पुलिस थाने में जाकर अपनी शिकायत भी दर्ज कराई है. अरविंद कपूर ने बताया कि कुछ दिनों पहले एक शख्स ने उनको कॉल किया और सूचित किया था कि अगर उनके केवाईसी को जल्द ही अपडेट नहीं किया गया तो उनका पेटीएम अकाउंट काम नहीं करेगा.

कोबरा ने शिकार करने के लिए छोटे से जानवर पर मारा ऐसा झपट्टा, फिर हुआ कुछ ऐसा... देखें VIDEO

उन्होंने कहा, ''मुझे एक अनजान नंबर से कॉल आया. शख्स ने खुद को पेटीएम का कर्मचारी बताया और कहा कि मेरा अकाउंट केवाईसी नहीं होने के कारण सस्पेंड हो गया है. केवाईसी नहीं होने के कारण मैं अपने अकाउंट से न तो पैसा निकाल सकता हूं और न ही कहीं ट्रांसफर कर सकता हूं. फोन करने वाले ने यह भी सुझाव दिया कि मैं मोबाइल फोन पर उनके निर्देशों का पालन करने के बाद ऑनलाइन केवाईसी अपडेशन के लिए जाऊं. मैंने वही किया जो शख्स ने कहा. लेकिन मुझे बाद में पता चला कि मेरे खाते से पैसे अपने आप निकल रहे हैं.''

महाराष्‍ट्र में सरकार नहीं बना पाई BJP तो ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा Chanakya, लोग बोले- "करा ली बेज्‍जती''

अरविंद कपूर ने कहा, ''पूरी प्रक्रिया होने के बाद शख्स ने मुझे पेटीएम में केवाईसी चेक करने के लिए कहा. मैंने सेविंग अकाउंट और क्रेडिट कार्ड से 1, 10 और 1 रुपये का ट्रांजैक्शन किया. मेरे फोन पर तीन बार ओटीपी आया और इस ट्रांजैक्शन के कुछ देर बाद ही मेरे अकाउंट से 1.85 लाख रुपये निकल गए.'' उन्होंने उस नंबर पर कॉल करने की कोशिश की लेकिन वह बंद पाया गया.

योगी आदित्यनाथ का कुत्ता खाता है पनीर, सीएम को देखकर करता है ऐसा, बना इंटरनेट सेलिब्रिटी

गुड़गांव पुलिस के एसीपी प्रीत पाल सिंह ने कहा, ''हमारे साइबर सेल ने प्रारंभिक जांच की है और पाया है कि कपूर का दावा सही था. इसके बाद, आईटी अधिनियम के तहत एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. अधिकारी मामले का पता लगाने के लिए आरोपियों के आईपी एड्रेस का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं.''

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com