सड़क पर चलता दिखा अजीबोगरीब सांप, आधे चांद जैसा दिखा सिर, पास जाकर देखा तो निकला... देखें Video

Virginia Wildlife Management and Control के स्नेक आइडेंटिफिकेशन हॉटलाइन ने हाल ही में एक अजीब दिखने वाले सांप (Bizarre Snake) को देखा. अपने आधे चंद्रमा के आकार के सिर (Half-Moon Shaped Head) के साथ सांप ने हर किसी को हैरान कर दिया.

सड़क पर चलता दिखा अजीबोगरीब सांप, आधे चांद जैसा दिखा सिर, पास जाकर देखा तो निकला... देखें Video

सड़क पर चलता दिखा अजीबोगरीब सांप, पास जाकर देखा तो निकला... देखें Video

वर्जीनिया वाइल्डलाइफ मैनेजमेंट एंड कंट्रोल (Virginia Wildlife Management and Control) के स्नेक आइडेंटिफिकेशन हॉटलाइन ने हाल ही में एक अजीब दिखने वाले सांप (Bizarre Snake) को देखा. अपने आधे चंद्रमा के आकार के सिर (Half-Moon Shaped Head) के साथ सांप ने हर किसी को हैरान कर दिया. उन्होंने स्वीकार किया, कि पहले कभी ऐसा सांप नहीं देखा है. वर्जीनिया वाइल्डलाइफ मैनेजमेंट एंड कंट्रोल के अनुसार, सांप को मिडलोथियन में पाया गया था.

उन्होंने इसे फेसबुक पोस्ट में 10 से 12 इंच लंबा बताया. साथ ही उन्होंने इसकी पहचान के लिए लोगों से मदद मांगी. वन्यजीव प्रबंधन कंपनी ने लिखा, 'समस्या यह है, हमने पहले कभी ऐसा कुछ नहीं देखा है. अगर किसी को कोई भी विचार है। यह क्या है, कृपया बेझिझक टिप्पणी करें.'

बाद में सांप की पहचान की गई, और यह पूरी तरह से कुछ और निकला. कंपनी ने एक अपडेट पोस्ट किया जिसमें खुलासा किया गया कि 'सांप' की पहचान एक हेमरहेड वॉर्म के रूप में हुई है. जो एक आक्रामक प्रजाति है, जो दक्षिण पूर्व एशिया का मूल निवासी है. 

देखें Video:

Newsbeep

सैकड़ों लोगों ने कंपनी के दो फेसबुक पोस्ट पर टिप्पणी की, यह देखते हुए कि ये कीड़े मारने के लिए कठिन हैं. लाइव साइंस के मुताबिक, हेमरहेड वॉर्म को मारना बेहद मुश्किल होता है. वे अपने शरीर के छोटे उभरे हुए बिट्स से भी पुन: उत्पन्न कर सकते हैं. उन्होंने लिखा, 'इनको शोवलहेड वॉर्म या हेमरहेड वॉर्म भी कहा जाता है. यह आसानी से अर्थवॉर्म्स को मार सकते हैं.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक फेसबुक यूजर ने नमक या सिरके में कीड़ा डालने का सुझाव दिया. टेक्सास इनवेसिव स्पीशीज इंस्टीट्यूट के अनुसार, यह माना जाता है कि हेमरहेड वॉर्म अमेरिका में दशकों पहले प्रवेश कर गए थे. वे स्पष्ट रूप से बागवानी पौधों के साथ देश में लाए गए थे और 1901 से नियमित रूप से ग्रीनहाउस में पाए जाते थे.