सहारा रेगिस्तान से उड़ी धूल पहुंची अमेरिका, नासा के एस्ट्रोनॉट ने शेयर की स्पेस से फोटो

नासा (Nasa) एस्ट्रोनॉट (Astronaut) डग हर्ले ने अपने ट्विटर (Twitter) हैंडल से पृथ्वी की एक आश्चर्यजनक फोटो शेयर की है. आपको बता दें कि डग हार्ले फिलहाल अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) पर हैं.

सहारा रेगिस्तान से उड़ी धूल पहुंची अमेरिका, नासा के एस्ट्रोनॉट ने शेयर की स्पेस से फोटो

सहारा रेगिस्तान से उड़ी धूल पहुंची अमेरिका

नासा (Nasa) एस्ट्रोनॉट (Astronaut) डग हर्ले ने अपने ट्विटर (Twitter) हैंडल से पृथ्वी की एक आश्चर्यजनक फोटो शेयर की है. आपको बता दें कि डग हार्ले फिलहाल अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) पर हैं. और उन्होंने वहां से कुछ घंटे पहले एक तस्वीर शेयर कि जिसे शेयर करते हुए उन्होंने लिखा... आप देख सकते हैं कि सहारन धूल किस तरह से अटलांटिक महासागर से होते हुए अमेरिका के आसमानों का रंग बदल रही हैं. 

सीएनएन के मुताबिक सहारन धूल अफ्रीका से लेकर संयुक्त राज्य अमेरिका तक अपना रास्ता बना रहा है.  सहारा मरुस्थल से निकलने वाली धूल इतनी तेजी में आ रही है कि यह अंतरिक्ष से दिखाई दे रहा है. क्योंकि नीले रंग के पानी में फैले ग्रे कलर के बादल की तरह दिख रहा हैं. 

अंतरिक्ष यात्री डग हर्ले ने लिखा, " सहारन के धूल ने आज पश्चिम मध्य अटलांटिक से उड़ान भरी. सबसे कमाल की बात यह है कि यह धूल काफी बड़ा एरिया कवर कर रही है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने इसकी तस्वीरें भी शेयर की है. यह धूल इतना घना है कि यह बता पाना मुश्किल हो रहा है कि कहां जमीन है और कहां पानी.

आपको बता दें कि सहारन धूल वाली वीडियो 13 घंटे पहले ट्विटर पर एस्ट्रोनॉट डग हर्ले के द्वारा शेयर किया गया था और कुछ घंटे के अंदर ही यह वायरल हो गया. अब तक इसे 22 हजार से अधिक लाइक्स और कई खूबसूरत कमेंट मिल चुके हैं. एक यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा.. बहुत बहुत शुक्रिया इतनी खूबसूरत फोटो हमारे साथ शेयर करने के लिए. वहीं एक दूसरे यूजर ने लिखा... एक दिन मैं इसे खुली आंखों से देख पाउंगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अमेरिका के सीएनएन के मौसम विज्ञानी हेली ब्रिंक ने कहा पूर्व-से-पश्चिम की तरफ हवा चल रही है. जिसकी वजह से पूरी पृथ्वी पर धूल फैल रहा है.  "सहारन धूल के बड़े प्लम नियमित रूप से वसंत ऋतु में अटलांटिक महासागर में गिरते हैं. हर बार धूल का प्लम काफी बड़ा होता है . आपको बता दें कि यह धूल अटलांटिक से दिशा बनाते हुए हजारों मील की यात्रा कर सकती है. 

डग हर्ले उन दो अंतरिक्ष यात्रियों में से एक हैं जो इस महीने की शुरुआत में एक ऐतिहासिक उड़ान पर हैं. हर्ले और रॉबर्ट बेकन. ये दोनों  1 जून को स्पेसएक्स के फाल्कन 9 रॉकेट पर 19 घंटे की यात्रा के बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पहुंचे थे.