Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

इंटरनेट स्वतंत्रता के मामले में पाकिस्तान सबसे खराब देशों में शामिल, रिपोर्ट में खुलासा

कश्मीर में इंटरनेट की सेवा ठप रहने के चलते पाकिस्तान भारत की आलोचना करता रहा है, लेकिन एक अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्ट ने इस बात का खुलासा किया है कि लगातार नौ साल से इंटरनेट उपयोग के मामले में पाकिस्तान स्वतंत्र नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
इंटरनेट स्वतंत्रता के मामले में पाकिस्तान सबसे खराब देशों में शामिल, रिपोर्ट में खुलासा

कश्मीर में इंटरनेट की सेवा ठप रहने के चलते पाकिस्तान भारत की आलोचना करता रहा है, लेकिन एक अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्ट ने इस बात का खुलासा किया है कि लगातार नौ साल से इंटरनेट उपयोग के मामले में पाकिस्तान स्वतंत्र नहीं है. इसी के साथ इस साल पाकिस्तान ने इस मामले में 100 से 26 स्कोर किया है जबकि पिछले साल यह 27 था. फ्रीडम हाउस (गैर सरकारी संगठन) ने मंगलवार को 'द क्राइसिस ऑफ सोशल मीडिया' शीर्षक के साथ अपनी फ्रीडम ऑन द नेट (एफओटीएन) रिपोर्ट को जारी किया, जिसमें जून 2018 से मई 2019 के बीच वैश्विक इंटरनेट स्वतंत्रता में समग्र गिरावट दर्ज की गई है.

ये भी पढ़ें: करंट लगने पर अपने बच्चे को पशु अस्पताल लेकर पहुंच गई बंदरिया

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, रिपोट में पाकिस्तान को 100 (सबसे खराब) में से 26वें नंबर पर रखा गया है, पिछले साल की रैकिंग के मुकाबले यह एक स्थान नीचे है. इंटरनेट के उपयोग में आने वाली बाधाओं के लिए इस देश ने 25 में से 5 स्कोर किया है, इंटरनेट पर सर्च की जाने वाली चीजों की सीमित मात्रा में पाकिस्तान ने 35 में से 14 स्कोर किया है और उपयोगकर्ता अधिकार सूचकांक के उल्लंघन के मामले में पाकिस्तान ने 40 में से सात अंक प्राप्त किए हैं.


ये भी पढ़ें: थाने के अंदर घुस आया सांप, बाहर निकालने के लिए पुलिसवाले ने बजाई बीन तो हुआ ऐसा...

वैश्विक स्तर पर, इंटरनेट और डिजिटल मीडिया स्वतंत्रता के मामले में पाकिस्तान दस सबसे खराब देशों में से एक है. क्षेत्रीय रैकिंग के मामले में पाकिस्तान, वियतनाम और चीन के बाद तीसरा सबसे खराब देश है.

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: स्मृति ईरानी ने शेयर की भांजे के साथ क्यूट फोटो, एकता कपूर बोलीं- 'धन्य है कि तुम...'

इंटरनेट स्वतंत्रता में आई गिरावट के अलावा रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि पाकिस्तान में सूचनात्मक रणनीति के माध्यम से चुनाव में भी हेरफेर किया गया है जिनमें अति-पक्षपात टीकाकरों, बोट्स (इंटरनेट प्रोग्राम) या भ्रामक या गलत जानकारी फैलाने के लिए न्यूज साइट के साथ-साथ कनेक्टीविटी पर अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबंध और वेबसाइट्स की ब्लाकिंग जैसे तकनीकी चाल भी शामिल हैं.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... नीना गुप्ता ने ट्रांसपेरेंट ब्लैक साड़ी में पुरानी तस्वीर की शेयर, लिखा- ''25 साल पहले भी...''

Advertisement