NDTV Khabar

April's Pink Moon 2019: आज रात दिखेगा Pink Moon, ऐसे कर पाएंगे दीदार

आज आप आसमान में पिंक मून (Pink Moon) का दीदार कर सकते हैं. इससे पहले कि आप यह सोचने लगे कि आपको आज रात गुलाबी रंग का चांद दिखाई देगा तो हम यह बता दें कि इसका नाम 'पिंक मून' जरूर है लेकिन इसके नाम से इसके रंग का कोई लेना-देना नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
April's Pink Moon 2019: आज रात दिखेगा Pink Moon, ऐसे कर पाएंगे दीदार

April's Pink Moon 2019: आज रात दिखेगा Pink Moon.

आज आप आसमान में पिंक मून (Pink Moon) का दीदार कर सकते हैं. इससे पहले कि आप यह सोचने लगे कि आपको आज रात गुलाबी रंग का चांद दिखाई देगा तो हम यह बता दें कि इसका नाम 'पिंक मून' जरूर है लेकिन इसके नाम से इसके रंग का कोई लेना-देना नहीं है. जी हां, यह चांद दिखने में बिलकुल भी गुलाबी रंग का नहीं होता है. इसका सिर्फ नाम पिंक मून (Pink Moon 2019) है. दरअसल, पिंक फ्लोक्‍स (Pink Flower) नाम के फूल के ऊपर इसका नाम 'पिंक मून' रखा गया है. यह एक खास तरह का फूल है जो अमेरिका में वसंत ऋतु के दौरान खिलता है. यह फूल गुलाबी रंग का होता है और यह वसंत ऋतु में जमीन को किसी कंबल की तरह ढक देता है. आपको बता दें कि पूर्णिमा का अगला चांद 18 मई को दिखाई देगा, जिसका नाम 'फ्लावर मून' (Flower Moon) रखा गया है. 

भारत में आंशिक तौर पर देखा गया इस साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण


क्‍या है पिंक मून?
'पिंक मून' एक पारंपरिक नाम है. नेटिव अमेरिका के आदिवासी फसल कटाई का समय याद रखने के लिए अप्रैल के चांद को पिंक मून कहते थे. चूंकि इस दौरान चारों ओर पिंक फ्लोक्‍स के फूल ही फल दिखाई देते हैं इसलिए उन्‍होंने पूर्णिमा के चांद का नाम 'पिंक मून' रख दिया. पिंक मून को 'ग्रास मून' (Grass Moon), फिश मून (Fish Moon) और ऐग मून (Egg Moon) के नाम से जाना जाता है.

आपको बता दें कि नेटिव अमेरिका में हर महीने पूर्णिमा के चांद को अलग-अलग नाम इसलिए दिए गए क्योंकि वहां के आदिवासी समय के लिए जूलियन या ग्रेगोरियन कैलेंडर का इस्‍तेमाल नहीं करते थे. इसके बजाए वे चांद के जरिए  ऋतुओं की गणना करते थे. इसी वजह से उन्‍होंने हर महीने के पूरे चांद को एक नाम दे दिया था.

सुपर मून 2018 : 14 फीसदी ज्यादा चमकीला होगा चांद, जानें कहां दिखेगा ये खूबसूरत नज़ारा

कब और कहां दिखाई देगा पिंक मून? 
पिंक मून 19 अप्रैल की रात दुनिया भर में दिखाई देगा. हालांकि इसका दीदार बहुत कुछ मौसम की परिस्थितियों पर भी निर्भर करेगा. कहने का मतलब यह है कि अगर मौसम साफ होगा तो आप पिंक मून का बेहतरीन नजारा देख पाएंगे. लेकिन अगर आसमान में बदली छाई रहेगी तो फिर आप इसे नहीं देख पाएंगे. नासा के ब्‍लॉग के मुताबिक पिंक मून आज से तीन दिनों तक देखा जा सकेगा. पूर्णिमा का ये पिंक मून भारतीय समयानुसार आज शाम 04 बजकर 42 मिनट से दिखने लगेगा. 

टिप्पणियां

चंद्रमा पर पानी! नासा इस रहस्य को खोजने में जुटा, उल्कापिंडीय धाराएं मिलीं

कैसे देख सकते हैं गुलाबी चांद?
गुलाबी चांद के इस दीदार के लिए आपको कोई खास इंतजाम करने की जरूरत नहीं है. आप खुली आंखों से इस खगोलीय घटना के साक्षी बन सकते हैं. आप चाहें तो दूरबीन का इस्‍तेमाल भी कर सकते हैं. अगर बेहतरीन नजारा चाहते हैं तो प्रदूषण वाली जगह से दूर रहें. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement