NDTV Khabar

ये डॉक्टर मरीज को देता है हनुमान चालीसा पढ़ने की सलाह, लिखा- 'भगवान ठीक करेगा'

अगर कोई डॉक्टर कहे कि रोज हनुमान चालीसा का पाठ करें और मंदिर जाने की सलाह दे तो. सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा.

378 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
ये डॉक्टर मरीज को देता है हनुमान चालीसा पढ़ने की सलाह, लिखा- 'भगवान ठीक करेगा'

राजस्थान के भरतपुर के डॉक्टर दिनेश शर्मा लोगों को हनुमान चालीसा पढ़ने की सलाह देते हैं

खास बातें

  1. डॉक्टर मरीज को देता है हनुमान चालिसा पढ़ने की सलाह
  2. राजस्थान के भरतपुर का रहने वाला हैं डॉक्टर दिनेश शर्मा.
  3. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है डॉक्टर का पर्चा.
नई दिल्ली: बीमार पढ़ने के बाद मरीज सबसे पहले डॉक्टर के पास जाता है. उसे उम्मीद रहती है कि डॉक्टर दवाई और अच्छे से इलाज करके सबकुछ ठीक कर देगा. अगर कोई डॉक्टर कहे कि रोज हनुमान चालीसा का पाठ करें और मंदिर जाने की सलाह दे तो. सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा. क्योंकि डॉक्टर का काम होता है, सही उपचार करके मरीज को ठीक करना. लेकिन राजस्थान के इस डॉक्टर की मानें तो दवाई के साथ-साथ ये हनुमान चालीसा का पाठ करने की भी सलाह देते हैं. उनका ये प्रिसक्रिप्शन सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें उन्होंने मरीज को हनुमान चालीसा और रोज मंदिर जाकर पाठ में शामिल होने की सलाह दी है. 

पढ़ें- बिहार में बदहाल स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था, डॉक्‍टर ने जिंदा व्‍यक्ति को मृत बताकर पोस्‍टमार्टम के लिए भेजा
 
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टर दिनेश शर्मा राजस्थान के भरतपुर के हैं. 69 वर्षीय दिनेश वरिष्ठ सरकारी चिकित्सक रह चुके हैं. वो अब रिटायर होकर क्लिनिक संभालते हैं. ये जो प्रिसक्रिप्शन वायरल हो रहा है वो पर्चा शेखर नामक व्यक्ति का है. जो एक मैकेनिक है और वो पेट दर्द की शिकायत लेकर डॉक्टर को दिखाने गया था.

पढ़ें- बंगाल में डेंगू की स्थिति पर डॉक्टर ने फेसबुक पर लिखा पोस्ट, हुआ सस्पेंड

दिनेश ने चार दवाईयां लिखने के बाद पांचवां नंबर लिखकर हनुमान जी की चालीसा करने की सलाह दे डाली और साथ ही लिखा- 'प्रतिदिन मंदिर में आरती करने जाइए.' दिनेश का कहना है कि हर दिन मंदिर जाना और हनुमान चालीसा का पाठ करने से मन को शांति मिलती है और बीमारी भी ठीक हो जाती है.

पढ़ें- ...जब डॉक्टर ने अपना खून देकर बचाई मरीज की जान​

पर्चे पर लिखा है- डॉक्टर सिर्फ इलाज करता है, ठीक भगवान करता है
दिनेश ने अपने पर्चे में भी भगवान का जिक्र किया है. पर्चे के सबसे ऊपर लिखा है- 'डॉक्टर सिर्फ इलाज करता है, ठीक भगवान करता है.' दिनेश कहते हैं- मैं मरीजों को 'आध्यात्मिक खुराक' देता हूं. आध्यात्मिकता से तेज रिकवरी होती है. 

देखते हैं हफ्ते में सिर्फ दो दिन
दिनेश शर्मा का क्लीनिक भरतपुर में रेलवे स्टेशन रोड पर है. वो दिन में सिर्फ 10 बजे से 2 बजे तक बैठते हैं और हफ्ते में दो ही दिन मरीजों को देखते हैं. उनके अधिकतर मरीज गांव से आते हैं. दिनेश का कहना है कि वो उन लोगों को हनुमान पाठ करने को कहते हैं जो स्ट्रेस की वजह से बीमार पड़े हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement