NDTV Khabar

सतीश कौशिक ने ट्रक को बनाया सिनेमा हॉल, गांव वाले देख सकते हैं 35 रुपये में फिल्म

फिल्म मेकर सतीश कौशिक ने मोबाइल थियेटर बनाया है जिसको कहीं भी ले जाया जा सकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सतीश कौशिक ने ट्रक को बनाया सिनेमा हॉल, गांव वाले देख सकते हैं 35 रुपये में फिल्म

सतीश कौशिक ने ट्रक को बनाया सिनेमा हॉल.

एक तरफ गांव में एक ही सिनेमा हॉल होते हैं तो बड़े शहरों में मल्टीप्लैक्स होते हैं. टिकट की कीमत भी ज्यादा होती है और फिल्म देखने के ऑप्शंस भी मिल जाते हैं. लेकिन अब गांव वाले भी 35 रुपये में नई फिल्म देख सकते हैं. वो भी चलते-फिरते सिनेमा हॉल में. फिल्म मेकर सतीश कौशिक ने मोबाइल थियेटर बनाया है जिसको कहीं भी ले जाया जा सकता है. सतीश कौशिक ने बाहुबली-2 मोबाइल थियेटर में ही देखी थी. पिक्चर क्वालिटी और साउंड क्वालिटी शानदार लगी. जिसके बाद उनको ये आइडिया आया. Times of India के मुताबिक, 35 मोबाइल थियेटर तैयार हो चुके हैं और 150 मोबाइल थियेटर बनने की तैयारी हो रही है. जो गांव-गांव जाकर 35 रुपये में इंटरटेन करेगी. 

4 महीने से कोमा में थी लड़की, अचानक बजा ये गाना और उठ खड़ी हुई
 
650x400

ट्रक को एसेम्बल कर के मोबाइल थियेटर बनाया गया है. थियेटर के अंदर करीब 150 लोग आ सकते हैं. अंदर एयर कंडीशन, फायर प्रूफ और वेदर प्रूफ है. अंडर से बिलकुल मल्टीप्लैक्स की तरह बनाने की कोशिश की गई है. सतीश कौशिक ने कहा- भारत में मल्टीप्लैक्स की टिकट काफी महंगी है. शाहरुख खान और सलमान खान के लिए लोग 400 रुपये तक खर्च कर सकते हैं क्योंकि वो सुपरस्टार्स हैं. लेकिन लोग उन पर 400 रुपये खर्च नहीं करना चाहते जो बॉलीवुड में कदम रख रहे हैं. चलते-फिरते सिनेमा हॉल ये प्रोब्लम भी सॉल्व कर देगा. 


चलती गाड़ी में अचानक सो गया ड्राइवर, सामने आई स्कूटर तो देखें क्या हुआ

टिप्पणियां
ये पूरा प्रोजेक्ट सुनील चौधरी का आइडिया है. वो चाहते हैं कि सिनेमा हॉल हर जगह पहुंचे और बजट में लोग फिल्म का आनंद ले सकें. मोबाइल सिनेमा में 35 से 75 रुपये तक की टिकट हैं. आइडिया सुनने के बाद सतीश कौशिक उनके साथ बिजनेस करने को तैयार हो गए हैं. 

कौन है सतीश कौशिक
सतीश कौशिक बॉलीवुड में एक्टर, प्रोड्यूसर और एक्टर हैं. वो 'मिस्टर इंडिया' में 'कैलेंडर', 'दीवाना मस्ताना' में 'पप्पू पेजर' के रोल में काफी पसंद किए गए थे. कई बड़ी फिल्मों में वो कॉमेडी एक्टर के रूप में काम कर चुके हैं. 'रूप की रानी चोरों का राजा' उनकी पहली डायरेक्टोरियल फिल्म थी. अब तक वो 18 फिल्मों को डायरेक्ट और प्रोड्यूस कर चुके हैं. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement