NDTV Khabar

Section 377 खत्म होने के बाद इस शख्स ने मनाई ऐसी खुशी, माता-पिता बोले- अब हमारा बेटा अपराधी नहीं
पढ़ें | Read IN

सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता (Homosexuality) को अपराध की श्रेणी से हटा दिया है. इसके अनुसार आपसी सहमति से दो वयस्कों के बीच बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अब अपराध नहीं माना जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Section 377 खत्म होने के बाद इस शख्स ने मनाई ऐसी खुशी, माता-पिता बोले- अब हमारा बेटा अपराधी नहीं

Section 377 खत्म होने के बाद मुंबई के इस शख्स ने ऐसे मनाया जश्न.

सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता (Homosexuality) को अपराध की श्रेणी से हटा दिया है. इसके अनुसार आपसी सहमति से दो वयस्कों के बीच बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अब अपराध नहीं माना जाएगा.  करीब 55 मिनट में सुनाए इस फ़ैसले में धारा 377 (section 377) को रद्द कर दिया गया है. फैसला आने के बाद मुंबई के रहने वाले अर्नब नंदी (Arnab Nandy) ने अपनी खुशी फेसबुक के जरिए जाहिर की. साथ ही एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें उनके माता-पिता साथ में बैठे हैं और एक पोस्टर पर लिखा है- 'हमारा बेटा अब क्रिमिनल नहीं है.' साथ ही पोस्ट में उन्होंने बताया कि उनके परिवार और दोस्तों कितना स्ट्रगल किया और कैसे साथ दिया. 

इस देश में शादी से पहले 'दोस्त' नहीं खा सकते बाहर एक साथ खाना, LGBT पर भी सख्त रोक

उन्होंने ये पोस्ट कल किया था. जिसमें वो माता-पिता के साथ नजर आ रहे हैं और काफी खुश दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने लिखा- ''आज जैसे ही मैं घर में दाखिल हुआ तो मां और पिता ने उनको गले लगा लिया और मुस्कुराते हुए बताया कि तुम्हें शुभकामनाएं बेटा अब लीगल हो चुका है और मेरे आंखों में खुशी के आंसू हैं.'' साथ ही उन्होंने लिखा- ''मुझे खुशी है कि मेरे माता-पिता बिलकुल नेगेटिव नहीं हैं. इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और इस मैसेज को सभी तक पहुंचाएं.''

धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद समलैंगिक शादी को कानूनी मान्‍यता दिलाने पर नजर


उनका ये पोस्ट कुछ ही घंटे में वायरल हो गया. इस पोस्ट को 14 हजार से ज्यादा लाइक्स और 5 हजार से ज्यादा शेयर्स हो चुके हैं. लोग उनको शुभकामनाएं दे रहे हैं और उनकी स्टोरी पसंद कर रहे हैं. एक यूजर ने लिखा- 'दिल छू लिया. मेरा प्यार तुम्हें और तुम्हारे माता-पिता के साथ है.' 

टिप्पणियां
अब महिला और पुरुष के बीच अप्राकृतिक यौनाचार भी अपराध नहीं...

पोस्ट वायरल होने के बाद उनसे जब पूछा गया कि इतना अटेंशन मिलने के बाद कैसा लग रहा है तो उन्होंने NDTV को बताया- ''लोग जन्मजात होमोफॉबिक नहीं हैं. कमी है तो सिर्फ अच्छे वातावरण की और जाग्रुकता की. मुझे खुशी है कि इस पोस्ट के जरिए लोगों तक बात पहुंच रही है.''


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement