NDTV Khabar

शाजिया इल्मी ने कमान पर चढ़ाया वही 'ट्विटर तीर' जिससे 3 साल पहले कुमार विश्वास ने उन्हें किया था घायल

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
शाजिया इल्मी ने कमान पर चढ़ाया वही 'ट्विटर तीर' जिससे 3 साल पहले कुमार विश्वास ने उन्हें किया था घायल

शाजिया इल्मी ने रिट्वीट किया कुमार विश्वास का तीन साल पुराना ट्वीट.

खास बातें

  1. शाजिया इल्मी के आप छोड़ने के दौरान कुमार विश्वास ने ट्वीट कर कसा था तंज
  2. इन दिनों कुमार विश्वास के आप छोड़ने की आशंका की चल रही हैं खबरें
  3. शाजिया ने तीन साल पुराने ट्वीट को रिट्वीट कर विश्वास पर किया पलटवार
नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) में कुमार विश्वास को लेकर संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया तक उन्हें पार्टी में रोके रखने की कोशिश में लगे हैं. इसी बीच कुमार विश्वास का एक तीन साल पुराना ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. दरअसल, कुमार विश्वास ने यह ट्वीट उस वक्त किया था जब शाजिया इल्मी ने आप छोड़कर बीजेपी में चली गईं थीं. कुमार विश्वास ने तंज कसते हुए लिखा था, 'धीरज धरम मित्र अरु नारी आपद काल परखिए चारी.' कुमार विश्वास के आप से अलग होने की आशंका के बीच सुमित कुमार नाम के ट्विटर यूजर ने तीन साल पुराने ट्वीट की तस्वीर को ट्वीट किया है. शाजिया इल्मी ने इस ट्वीट को रिट्वीट किया है. इसके अलावा शाजिया ने कुमार के एक दूसरे ट्वीट को शाजिया ने रिट्वीट किया है, जिसमें कुमार ने लिखा था सर, पुराने पुराने पैंतरे नहीं चलेंगे. इस ट्वीट के जवाब में लिखा गया है कि मतलब पैंतरे तुम्हें तब भी पता थे जब शाजिया इल्मी, प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव को निकाला गया बोले सिर्फ अपनी बारी में. मालूम हो कि आप विधायक अमानतुल्ला ने कुमार विश्वास पर आरोप लगाए थे कि वे बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं. इसके बाद कुमार विश्वास के पक्ष में कुछ लोगों ने विधायक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. नाटकीय घटनाक्रम के तहत सोमवार देर रात विधायक ने पीएसी से इस्तीफा दे दिया. हालांकि, कुमार खेमा सिर्फ पीएसी से इस्तीफा दिए जाने से ही संतुष्ट नहीं है. उन्होंने अमानतुल्ला पर कार्रवाई की मांग की है. अमानतुल्ला के आरोप से नाराज कुमार विश्वास ने उन्हें पार्टी से निकालने की मांग की है.

इतना ही नहीं विश्वास ने सोमवार को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में पार्टी नेताओं को मीडिया से बात करने पर परहेज बरतने के फैसले को धता बताते हुए पत्रकारों से औपचारिक बातचीत भी की. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि वह पार्टी की गलतियों को उजागर करते रहेंगे और देशहित में जो भी सही होगा उसे बोलने से नहीं रुकेंगे.

टिप्पणियां
विश्वास ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आप संयोजक पद से हटाकर उन्हें यह जिम्मेदारी देने की मांग के सवाल पर कहा कि उनके मन में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या आप संयोजक बनने की कोई महत्वाकांक्षा नहीं है. पंजाब, गोवा विधानसभा चुनाव और नगर निगम चुनाव में आप के लचर प्रदर्शन को देखते हुए पार्टी के तमाम विधायक केजरीवाल
को पार्टी संयोजक पद से हटाने की पैरोकारी कर रहे हैं. 

विश्वास ने भावुक होते हुए कहा कि 'मैं यह बात केजरीवाल और सिसोदिया को पहले ही बता चुका हूं कि मेरी ऐसी कोई इच्छा नहीं है. ना ही मैं स्वराज इंडिया या किसी अन्य राजनीतिक दल में शामिल होने जा रहा हूं'. हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि अमानतुल्ला खान अगर केजरीवाल या सिसोदिया के खिलाफ कुछ भी बोलते तो उन्हें 10 मिनट के भीतर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता. इससे पहले मंत्री कपिल मिश्रा सहित आज आप के वरिष्ठ नेताओं ने विश्वास से मुलाकात कर उन्हें मनाने की कोशिश की, लेकिन इसका कोई खास असर होता नहीं दिखा. (इनपुट्स भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement