खाने की तलाश में स्कूल के अंदर घुस गया शेर, पिंजरा देखते ही ऐसे मारी दहाड़, देखें Viral Video

भोजन की खोज करने वाला एक शेर हाल ही में गुजरात (Gujarat) के एक प्राथमिक विद्यालय (Primary School) के भवन में दाखिल हुआ. सोशल मीडिया पर ये वीडियो तेजी से वायरल (Viral Video) हो रहा है.

खाने की तलाश में स्कूल के अंदर घुस गया शेर, पिंजरा देखते ही ऐसे मारी दहाड़, देखें Viral Video

खाने की तलाश में स्कूल के अंदर घुस गया शेर, पिंजरा देखते ही ऐसे मारी दहाड़...

भोजन की खोज करने वाला एक शेर हाल ही में गुजरात (Gujarat) के एक प्राथमिक विद्यालय (Primary School) के भवन में दाखिल हुआ. भारतीय वन सेवा के अधिकारी सुशांत नंदा (Sushanta Nanda) ने ट्विटर पर इस वीडियो को शेयर किया है. बुधवार सुबह पासवाला गांव में स्कूल की इमारत के अंदर का शेर दिखा. उसके अंदर जाने के बाद शेर दहाड़ मारता दिखा, उसको बाद में शांत किया गया और उसे वन विभाग के अधिकारियों ने इमारत से बचाया. सोशल मीडिया पर ये वीडियो तेजी से वायरल (Viral Video) हो रहा है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पूरी तरह से विकसित नर शेर स्कूल के बगल में एक शेड में रखे गए मवेशियों को शिकार करने की कोशिश कर रहा था. लेकिन वो शिकार करने में कामयाब नहीं हो सका. मवेशियों का मालिक जाग गया और शोर मचाने लगा. शेर शेड से भाग निकला और स्कूल की इमारत में जा घुसा. यह घटना राज्य के गिर सोमनाथ जिले में हुई थी.

जब ग्रामीणों द्वारा शेर की उपस्थिति की सूचना दी गई, तो वन विभाग के अधिकारियों ने शेर को भागने से रोकने के लिए सभी निकास को सील करके अपना बचाव अभियान शुरू किया. फिर उन्होंने बड़ी बिल्ली को पकड़ने के लिए एक दरवाजे के सामने एक जाल पिंजरे को रखने की कोशिश की- एक रणनीति जो असफल रही क्योंकि शेर ऊपर की ओर चढ़ने में कामयाब रहा. अंत में इसे शांत किया गया और जसाधार पशु बचाव केंद्र में ले जाया गया, जहां से इसे वापस जंगल में छोड़ा गया.

देखें Video:

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वीडियो में देखा जा सकता है कि शेर स्कूल के अंदर है और जोर से दहाड़ मार रहा है. इस वीडियो के अब तक 4 हजार से ज्यादा व्यूज हो चुके हैं. फेसबुक पर भी इस वीडियो के अब तक हजारों व्यूज हो चुके हैं. 

घटना में कोई भी घायल नहीं हुआ। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, गिर सोमनाथ जिले में लगभग 60 शेर हैं जो अक्सर मवेशियों का शिकार करते हैं. वन विभाग द्वारा मवेशियों के नुकसान के लिए ग्रामीणों को मुआवजा दिया जाता है.