सौरव गांगुली के कारण टीम इंडिया को मिले थे एमएस धोनी, जानिए कैसे

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का युवाओं पर भरोसा दिखाने के कारण भारतीय क्रिकेट टीम को सबसे महानतम खिलाड़ियों में से एक महेन्द्र सिंह धोनी मिले.

सौरव गांगुली के कारण टीम इंडिया को मिले थे एमएस धोनी, जानिए कैसे

गांगुली की वजह से ही मिले थे टीम इंडिया को एमएस धोनी.

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का युवाओं पर भरोसा दिखाने के कारण भारतीय क्रिकेट टीम को सबसे महानतम खिलाड़ियों में से एक महेन्द्र सिंह धोनी मिले. यह दावा एक किताब में किया गया है. गांगुली ने कल अपना 46वां जन्मदिन मनाया और लेखक अभिरूप भट्टाचार्य की नयी किताब ‘विनिंग लाइक सौरव : थिंक एंड सक्सीड लाइक गांगुली ’ में भारतीय टीम के पूर्व कप्तान को दूरदृष्टि और सबसे तेज दिमाग वाले क्रिकेटरों में से एक बताया गया है.

धोनी ने एक मैच में पकड़े 5 कैच, Video में देखें उनका दमदार रिकॉर्ड
 
बंगाल के इस खिलाड़ी ने मैच फिक्सिंग प्रकरण के बाद सचिन तेंदुलकर की जगह कप्तानी की बागडोर संभाली और एक जुझारू टीम का गठन किया. गांगुली को युवराज सिंह, मोहम्मद कैफ, जहीर खान, वीरेंद्र सहवाग, हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के साथ ‘टीम इंडिया’ और ‘मेन इन ब्लू’ की अवधारणा बनाने का श्रेय दिया जाता है. किताब के मुताबिक , ‘गांगुली का मंत्र सरल था : उनका मानना था कि अगर युवा प्रतिभाशाली है तो उसे खुद को साबित करने का पर्याप्त अवसर दिया जाना चाहिये. वह सुनिश्चित करते थे कि टीम में ऐसे खिलाड़ी को शांत माहौल मिले और एक असफलता के बाद उसे बाहर नहीं किया जाए.’

ENG vs IND: टीम इंडिया मार रही थी छक्के तो वहीं पत्नियां ऐसे कर रही थीं एन्जॉय, देखें Video
 
किताब के मुताबिक धोनी इस नीति के सबसे बेहतर उदाहरण में से एक है. जिन्हें पहली चार पारियों में असफल रहने के बाद भी मौका दिया गया और अपनी पांचवीं पारी में पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 148 रन की पारी खेली. इस एक पारी के बाद धोनी का करियर पूरी तरह से बदल गया. ’ धोनी आगे चल कर भारतीय टीम के कप्तान बने और उन्होंने 2007 में भारत को आईसीसी टी 20 विश्व कप और 2011 में एकदिवसीय विश्व कप के अलावा चैम्पियंस ट्राफी का खिताब भी दिलवाया.

पाकिस्तानी क्रिकेटर हुआ इस बॉलीवुड स्टार का फैन, बोला- मेरी बायोपिक में यही करें एक्टिंग
 
रूपा प्रकाशन की इस किताब में कहा गया , ‘अगर गांगुली ने धोनी पर भरोसा नहीं दिखाया होता तो भारतीय क्रिकेट टीम को उसका सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर बल्लेबाज नहीं मिलता. ’ भट्टाचार्य इससे पहले ‘विनिंग लाइक विराट : थिंक एंड सक्सेस लाइक कोहली ’ जैसी किताब लिख चुके हैं. किताब में दावा किया गया कि गांगुली टीम में सीनियर और जूनियर खिलाड़ियों के बीच सामांजस्य बनाने में कामयाब रहे. संकट के समय टीम उनसे मार्गदर्शन लेती थी.

प्रैक्टिस के कारण बेटी को पहली बार चलते नहीं देख पाईं सेरेना, बताते ही रो पड़ीं टेनिस स्टार

भट्टाचार्य ने गांगुली की तुलना पाकिस्तान के महान खिलाड़ी इमरान खान और श्रीलंकाई दिग्गज अर्जुन रणतुंगा से की जिन्होंने नये सिरे से टीम का गठन किया और ऊंचाई पर ले गये. किताब में कहा गया कि ग्रेग चैपल विवाद को छोड़ दें तो टीम के पहले विदेशी कोच जान राइट और दूसरे खिलाड़ियों से उनके संबंध शानदार थे. उनकी कप्तानी में खिलाड़ी एक टीम की तरह खेलते थे और टीम की सचिन तेंदुलकर पर निर्भरता कम हुई. 

(इनपुट-भाषा)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com