Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सौरव गांगुली के हाथों ट्रोल हुए द्रविड़, सचिन और लक्ष्‍मण, बताया क्‍यों उनकी टीम कभी नहीं कर पाई स्‍लेजिंग

मयंती लैंगर (Mayanti Langer) ने जब सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) से स्‍लेजिंग को लेकर सवाल ि‍किया तो उन्‍होंने बड़े मजेदार अंदाज में जवाब दिया.

सौरव गांगुली के हाथों ट्रोल हुए द्रविड़, सचिन और लक्ष्‍मण, बताया क्‍यों उनकी टीम कभी नहीं कर पाई स्‍लेजिंग

सौरव गांगुली अपनी बेबाक राय रखने के लिए फैन्‍स के बीच काफी पसंद किए जाते हैं

खास बातें

  • गांगुली ने एक शो के दौरान तेंदुलकर, द्रविड़ और लक्ष्‍मण की खिंचाई की
  • उनका ये अंदाज फैन्‍स को खूब भा गया
  • गांगुली बेबाक राय रखने के लिए जाने जाते हैं
नई दिल्‍ली:

लॉर्ड्स की बालकनी में टी-शर्ट उतारकर दुनिया को ये दिखाना हो कि टीम इंडिया (Team India) जीतने के लिए आई है या फिर बिना लाग-लपेट अपनी बात रखनी हो. एक धाकड़ बल्‍लेबाज और भारीतय क्रिकेट टीम के सफलतम कप्‍तानों में से एक सौरव गांगुली (Saurav Ganguly) हमेशा अपनी बात पूरी साफगोई से रखते हैं चाहे वो बात कड़वी ही क्‍यों न हो.

यह भी पढ़ें: ऋषभ पंत के छक्के देख हैरान रह गए सौरव गांगुली, ऐसे उठा लिया गोदी में... 

भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच मंगलवार को हुए मैच के बाद एक शो के दौरान एंकटर मयंती लैंगर ने सौरव गांगुली से पूछा कि विपक्ष‍ियों को स्‍लेज करने के लिए उनकी क्‍या रणनीति होती थी? इस पर उन्‍होंने झट से कहा, "उस टीम के साथ ऐसा करना मुमकिन नहीं था क्‍योंकि उसमें बहुत सारे सज्‍जन (Genetelmen) लोग थे." आपको बता दें कि जिस वक्‍त गांगुली ऐसा कह रहे थे तब उनकी बगल में वीवीएस लक्ष्‍मण भी बैठे हुए थे.

इस बात को आगे समझाते हुए गांगुली ने मजाकिया अंदाज में कहा, "अगर आप राहुल द्रविड़ को ऐसा करने के लिए कहें तो वो कहते नहीं नहीं नहीं ये खेलने का सही तरीका नहीं है. अगर आप लक्ष्‍मण से कहें तो वो कहते थे नहीं नहीं मैं अपनी बैटिंग पर ध्‍यान दे रहा हूं. और अगर आप सचिन से कहें तो वो मिड-ऑन पर खड़े होकर मिड-विकेट फील्‍डर से स्‍टीव वॉ को स्‍लेज करने के लिए कहेंगे."

'सज्‍जनों की सज्‍जनता' से परेशान गांगुली ने कहा कि जो दो लोग भारत का झंडा लेकर खड़े थे वो खुद गांगुली और हरभजन थे.

गांगुली का ये अंदाज हमेशा ही लोगों को खूब भाता है. इस बार भी ट्विटर यूजर्स उनसे सहमत नजर आए:

बहरहाल, हम तो यही कहेंगे कि गांगुली जैसा कोई नहीं है.